पर्यटन के लिए लीज पर डिब्बे देगी रेलवे: सांस्कृतिक, धार्मिक थीम पर चलाई जा सकेगी रेल; रूट और किराया क्या होगा, तय कर सकेंगे ऑपरेटर

0
27
Article Top Ad


  • Hindi News
  • Business
  • Rail Coaches To Be Leased For Cultural, Religious Themes; Operators To Be Allowed To Decide The Routes And Fare

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

सरकार ने रेलवे के जरिए देशभर में पर्यटन को बढ़ावा देने की योजना बनाई है। वह स्पेशल थीम वाली सांस्कृतिक, धार्मिक और दूसरे टूरिस्ट सर्किट रेल चलाने के लिए डिब्बे लंबे समय के लिए किराए पर देगी।

टूरिज्म सेक्टर की क्षमताओं का फायदा उठाना चाहती है सरकार

सरकार टूरिज्म सेक्टर की क्षमताओं का फायदा उठाना चाहती है। वह चाहती है कि टूरिस्ट सर्किट की पहचान या उनको डेपलप करने में मार्केटिंग, हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में काम करने वालों की विशेषज्ञता का इस्तेमाल किया जाए।

कार्यकारी निदेशक स्तर की समिति बनाई गई है

रेल मंत्रालय ने टूरिज्म पॉलिसी बनाने और नियम एवं शर्तें तय करने के लिए कार्यकारी निदेशक स्तर की समिति बनाई है। इसको लेकर शनिवार को रेल मंत्रालय ने एक बयान जारी किया।

कम से कम पांच साल के लिए लीज पर दिए जाएंगे

इंटरेस्टेड पार्टियों को रेल के डिब्बे कम से कम पांच साल के लिए लीज पर दिए जाएंगे। लीज तब के लिए बढ़ाई जा सकेगी, जब तक वे इस्तेमाल किए जाने की हालत में होंगे।

साज-सज्जा के लिए थोड़ा-बहुत बदलाव किया जा सकेगा

रेल के डिब्बों को खरीदा भी जा सकेगा और साज-सज्जा के लिए उनमें थोड़ा-बहुत बदलाव किया जा सकेगा। रेलवे ट्रैक, सिग्निलिंग जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर पर होने वाला खर्च वसूलेगा। वह कोच के अपने परिसर में खड़ा होने का किराया लेगा।

ट्रेन का बिजनेस मॉडल तय करने का अधिकार होगा

प्राइवेट ऑपरेटरों को ट्रेन का बिजनेस मॉडल तय करने का अधिकार होगा। रूट और किराया वगैरह क्या होगा, वो तय कर सकेंगे। सरकार अतिरिक्त कमाई के लिए ऐसी रेलगाड़ियों में थर्ड पार्टी को ट्रेन के भीतर ऐड करने की इजाजत देगी।

साज-सज्जा और रूट की मंजूरी समय पर दी जाएगी

रेलवे ने कहा है कि ऐसी गाड़ियों को लेकर समय की पाबंदी का पूरा ख्याल रखा जाएगा। रेल के डिब्बों की साज-सज्जा के लिए और रूट की मंजूरी समय पर दी जाएगी।

खबरें और भी हैं…



Source