पीएलआई से इलेक्ट्रिक गाड़ियां 15-20 फीसदी सस्ती करने का लक्ष्य 

0
30
Article Top Ad


देश में ऑटो क्षेत्र में इलेक्ट्रिक और हाइड्रोजन ईंधन सेल तकनीक से लैस गाड़ियों के उत्पादन को प्रात्साहित करने के लिए बुधवार को उत्पादन आधारित प्रोस्ताहन योजना यानी पीएलआई स्कीम का ऐलान हुआ है। भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पाण्डेय के मुताबिक इससे न सिर्फ स्वदेशी निर्माण को बढ़ावा मिलेगा बल्कि पर्यावरण की स्वच्छता भी बढ़ेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि स्वदेशी निर्माण में बढ़ोत्तरी से ऐसी गाड़ियों के दाम औसतन 15-20 घटेंगे।

हिंदुस्तान से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि अब तक महंगे दामों की वजह से भले ही इलेक्ट्रिक गाड़ियों की तरफ लोगों का रुझान व्यापक तौर पर न रहा हो लेकिन इस पीएलआई योजना के बाद न सिर्फ दाम घटेंगे बल्कि लोग इनका व्यापक इस्तेमाल भी कर पाएंगे। उन्होंने बताया कि जो खास पार्ट और गाड़ियों में लगने वाला दूसरे जरूरी सामान अब तक विदेशों से आयात किए जाते थे, पीएलआई से अब उसके स्वदेशी निर्माण को बढ़ावा मिलेगा। इससे न सिर्फ गाड़ियों के दाम घटेंगे बल्कि निर्यात को भी बढ़ावा दिया जा सकेगा।

उद्योग मंत्री के मुताबिक इस योजना के तहत सबसे पहले पब्लिक ट्रांसपोर्ट से जुड़ी बसों, थ्री-व्हीलर और टू-व्हीलर गाड़ियों को शामिल किया है। भविष्य में कारों और दूसरे वाहनों को भी शामिल किया जाएगा। साथ ही जिस हिसाब से ऑटो कंपोनेंट को पीएलआई का फायदा दिया जाएगा, उससे सभी तरह की गाड़ी बनाने वाली कपनियों को फायदा होने की पूरी उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में भले ही किसी भी देश की कंपनी निवेश करने की इच्छा क्यों न रखती हो, देश के नियम कानून के मुताबिक निवेश पर उसका स्वागत होगा और उसे हर संभव मदद दी जाएगी। ग्लोबल इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला की तरफ उठाए गए भारत में ऊंचे टैक्स के मुद्दे को लेकर उद्योग मंत्री ने कहा है कि सरकार के ध्यान में सभी मुद्दे हैं और उद्योग जगत के हित और भारत की नीतियों के दायरे में जो भी मुनासिब होगा, किया जाएगा।

पीएलआई योजना को जल्द से जल्द लागू करने का भरोसा दिलाते हुए उन्होंने कहा है कि एक से दो महीने में सारी गाइडलाइंस को अंतिम रूप देते हुए कारोबारियों को निवेश के और उस पर इंसेंटिव लेने के दरवाजे खोल दिए जाएंगे। निवेश तेजी से हो इसके लिए वो लगातार कारोबारियों से संवाद स्थापित करेंगे। उन्होंने उम्मीद जताई है कि जिस हिसाब से कारोबारियों ने इस योजना के स्वागत में उत्साह दिखाया है, निवेश भी उसी पैमाने पर अच्छा आएगा।



Source