होम और कार लोन हो गया सस्ता, इन बड़े बैंक ने दिया त्यौहारों का तोहफा

0
19
Article Top Ad


Photo:PIXABAY

होम और कार लोन हो गया सस्ता, इन बड़े बैंक ने दिया त्यौहारों का तोहफा

मुंबई: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा ने बृहस्पतिवार को खुदरा कर्ज लेने वालों के लिये ब्याज में छूट देने समेत अन्य त्योहारी पेशकश की। विज्ञप्ति के अनुसार बैंक ने बड़ौदा आवास ऋण और बड़ौदा कार ऋण पर मौजूदा दर में 0.25 प्रतिशत की छूट की पेशकश की है। बैंक के आवास ऋण की ब्याज दर 6.75 प्रतिशत और वाहन ऋण 7 प्रतिशत से शुरू होता है। इसके अलावा बैंक ने आवास ऋण प्रसंस्करण शुल्क में भी छूट की घोषणा की है। 

बैंक के महाप्रबंधक एच टी सोलंकी ने कहा, ‘‘आगामी त्योहारों के दौरान खुदरा कर्ज पर इन पेशकशों के साथ हम हम अपने मौजूदा समर्पित ग्राहकों को त्यौहारों का तोहफा देना चाहते हैं। इसके साथ ही बैंक के साथ जुड़ने वाले नये ग्राहकों को भी आवास ऋण और कार ऋण लेने का एक आकर्षक अवसर उपलब्ध कराना चाहते हैं।’’ इससे पहले भारतीय स्टेट बैंक ने भी अपने संभावित आवास रिण लेने वाले ग्राहकों के लिये 6.70 प्रतिशत की घटी ब्याज दर पर त्यौहारी पेशकश की घोषणा की।

स्टेट बैंक की मकान खरीदारों के लिये त्योहारों पर कम ब्याज दर, अन्य छूट की पेशकश

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने बृहस्पतिवार को त्योहार के दौरान मकान के लिये कर्ज लेने वाले संभावित ग्राहकों के लिये विभिन्न पेशकश की। इसमें ‘क्रेडिट स्कोर’ से जुड़ा कितनी भी राशि का कर्ज शामिल है, जिस पर 6.70 प्रतिशत की घटी ब्याज दर की पेशकश होगी। अब तक, कर्जदार को 75 लाख रुपये से अधिक के आवास ऋण के लिये 7.15 प्रतिशत ब्याज देना होता था। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने एक बयान में कहा कि नयी पेशकश के साथ कर्जदार अब कितनी भी राशि का कर्ज 6.70 प्रतिशत ब्याज पर ले सकते हैं। 

बयान के अनुसार ब्याज दर में 0.45 प्रतिशत की कमी से कर्ज लेने वाले को 75 लाख रुपये के ऋण पर 30 साल की अवधि के दौरान 8 लाख रुपये से अधिक की बचत होगी। बैंक ने वेतन प्राप्त करने वाले और दूसरे लोगों के बीच ब्याज में 0.15 प्रतिशत के अंतर को समाप्त करने का भी निर्णय किया है। अब तक गैर-वेतनभोगी तबके को कर्ज पर 0.15 प्रतिशत अधिक ब्याज देना होता था। एसबीआई ने एक विज्ञप्ति में कहा कि अब मकान के लिये कर्ज लेने वालों से कोई व्यवसाय-आधारित अधिक ब्याज नहीं लिया जा रहा है। 

इससे गैर-वेतनभोगी कर्ज लेनदारों को 0.15 प्रतिशत ब्याज की बचत होगी। बयान के अनुसार बकाया कर्ज का दूसरे बैंक से स्टेट बैंक में स्थानांतरित करने वाले मामलों में भी 6.70 प्रतिशत ब्याज लागू होगा। बैंक ने यह भी कहा कि उसने प्रसंस्करण शुल्क हटा दिया है। एसबीआई के प्रबंध निदेशक (खुदरा और डिजिटल बैंकिंग) सी एस शेट्टी ने बयान में कहा कि प्रसंस्करण शुल्क समाप्त होने और रियायती ब्याज दर से त्योहारों के दौरान लोगों के लिये मकान लेना सस्ता पड़ेगा। 





Source