नया कोविड टेस्ट RTF-EXPAR: ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने तैयार किया RT-PCR  से तेज और सटीक नतीजे देने वाला कोविड टेस्ट, 3 मिनट में पता चलेगा इंसान पॉजिटिव है या नही

0
70
Article Top Ad


  • Hindi News
  • Happylife
  • Coronavirus RT PCR Test Alternative; Everything You Need To Know About RTF EXPAR

10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने RT PCR टेस्ट का नया विकल्प तैयार किया है। यह अगले तीन महीनों में आम लोगों के लिए उपलब्ध हो सकेगा। RT PCR की तरह इसमें भी स्वैब सैम्पल की जांच की जाएगी और 3 मिनट में पता चल पाएगा इंसान पॉजिटिव है या नहीं।

नया कोविड टेस्ट तैयार करने वाली बर्मिंघम यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का दावा है कि यह आरटी-पीसीआर टेस्ट से तेज और सटीक नतीजे देता है। शोधकर्ताओं का कहना है, नए टेस्ट का नाम RTF-EXPAR दिया गया है।

ऐसे काम करता है नया कोविड टेस्ट
शोधकर्ताओं ने एक ऐसी डिवाइस विकसित की है जो कोरोना का उसके जेनेटिक मैटेरियल के आधार पर पता लगाती है। जांच के लिए गले या नाक से लिए गए सैम्पल को उस डिवाइस में रखते हैं। यह डिवाइस कोरोना का पता लगाती है। यह जांच प्रोफेशल्स करते हैं। जांच का यह तरीका ऐसी जगहों के लिए भी सही होगा जहां समय बहुत कम होता है। जैसे-एयरपोर्ट। ऐसी जगहों पर कोविड की फास्ट स्क्रीनिंग हो सकेगी।

यूनिवर्सिटीज स्कूल ऑफ बायोसाइंसेज के प्रोफेसर टिम डैफ्रन का कहना है, सैम्पल में वायरल लोड कम होने पर रिजल्ट बताने में 8 मिनट तक का समय लग सकता है। वहीं, वायरल लोड अधिक होने पर 45 सेकंड लगते हैं।

शोधकर्ता प्रोफेसर एंड्रयू बेग्स कहते हैं, खूबियों के मामले नई जांच आरटीपीसीआर से किसी भी स्तर पर कम नहीं है। पॉजिटिव सैम्पल से 89 फीसदी और निगेटिव सैम्पल से 93 फीसदी तक सटीक जानकारी दी की जा सकती है।

नया टेस्ट क्यों RT PCR से बेहतर है
शोधकर्ताओं का कहना है, दोनों टेस्ट के रिजल्ट आने में कितना समय लगता है, इसकी जांच की गई। जांच में सामने आया कि नए टेस्ट से जिस नतीजे का रिजल्ट आने में 8 मिनट लगते हैं, उसी सैम्पल का RT PCR जांच से नतीजे आने में 42 मिनट लगा।

शोधकर्ताओं का कहना है, कई बार RT PCR टेस्ट से जांच के नतीजे आने में पूरा दिन लग जाता है क्योंकि सैम्पल को लैब में पहुंचने लम्बा समय लग जाता है। नई जांच से ऑन द स्पॉट नतीजे देखे जा सकते हैं।

कितनी होगी इस जांच की कीमत
नए कोविड टेस्ट से जांच कराने पर कितना खर्च आएगा, वैज्ञानिकों ने इस बारे में कोई भी ऑफिशियल जानकारी नहीं जारी की है। वैज्ञानिकों का दावा है कि यह आरटीपीसीआर के मुकाबले सस्ता होगा। जल्द ही इस टेस्ट की जांच ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी करेंगे। इसके बाद यूके में इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा।

खबरें और भी हैं…



Source