करनाल धरने पर सबका खाना अपना-अपना: प्रशासन ने तहसील में 2500, पुलिस लाइन की मेस में 4000, किसानों ने धरना स्थल पर 10 हजार के लिए खाना बनाया; डेरा कार सेवा गुरुद्वारा ने 5 हजार को बांटा लंगर

0
55
Article Top Ad


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal
  • Self Food Service By Farmers And Police Department On Protest Place Outside Mini Secretariat Karnal, Langar By Dera Car Seva Gurudwara

करनाल14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

धरने पर खाना बनाने के दौरान रोटियां बनाने की सेवा करती महिलाएं।

हरियाणा के करनाल जिले में लघु सचिवालय के बाहर चल रहे धरने के दौरान बुधवार दोपहर के समय का सबने अपना-अपना खाना तैयार किया। पुलिस लाइन मेस से 4000 कर्मचारियों के लिए भोजन बनाकर भिजवाया, प्रशासन ने तहसील परिसर में 2500 के लिए खाना बनवाया। वहीं, किसानों ने बसताडा टोल और पंजाब संगत के सहयोग से 10 हजार किसानों के लिए भोजन तैयार कर भंडारा चलाया। साथ ही करनाल के डेरा कार सेवा गुरुद्वारा से भी पांच हजार लोगों के लिए लंगर पहुंचा।

मंगलवार को धरना शुरू होने के बाद शाम को डेरा कार सेवा गुरुद्वारा और निर्मल कुटिया की ओर से लंगर भेजा गया। यह खाना किसानों, पुलिस-पैरामिल्ट्री के बीच बांटा गया। सुबह निर्मल कुटिया की तरफ से चाय ब्रेड का लंगर बांटा गया। दोपहर के लिए सुबह से ही प्रशासन, पुलिस और किसानों ने अपना-अपना भोजना तैयार करवाया।

धरनास्थल पर खाना बनाते किसान।

धरनास्थल पर खाना बनाते किसान।

तहसील में 11 बजे शुरू किया भोजन

प्रशासन ने 2500 कर्मचारियों और अधिकारियों के लिए भोजन तैयार करवाया। सुबह 11 बजे खाना शुरू हो गया था। खाने में कढ़ी-चावल, सब्जी, रोटी तैयार की गई।

पैकिंग में भी आया पुलिस का भोजन

एसपी गंगाराम पुनिया ने बताया कि पुलिस लाइन की मेस में करीब 4000 जवानों के लिए भोजन तैयार करवाया गया। ड्यूटी पर ही सभी जवानों को परसों शाम से भोजन पहुंचाया जा रहा है। इसके लिए स्पेशल टीम की व्यवस्था की गई है, खाना पैक कर उपलब्ध करवा रही है। उन्हें रोटी व सब्जी भेजी जा रही है।

तहसील कार्यालय में खाना बनाते कुक।

तहसील कार्यालय में खाना बनाते कुक।

संगत ने काटी सब्जी, सेवादारों ने बनाया खाना

किसानों ने अपने लिए खाने की व्यवस्था खुद ही की है। सुबह 10 बजे ही भोजन के लिए एक गाड़ी में मसाला, आलू, प्याज सहित अन्य सब्जी पहुंची थी। दो गाड़ियों में सिलेंडर और अन्य सामान आया। संगत ने खुद सब्जी काटी, साथ ही सेवादारों ने भोजन बनाना शुरू कर दिया। जैसे-जैसे खाना बनता गया। वैसे ही किसानों में वितरण भी शुरू हो गया। गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि वे अपने आंदोलन पर खाने की व्यवस्था खुद ही करेंगे।

गुरुद्वारे के सेवादार संगत का अनुमान लगा पहुंचा रहे भोजन

करनाल के गुरुद्वारे के सेवादार धरना स्थल पर पहुंचकर संगत का अनुमान लगाकर अपने भोजन तैयार करने वाले सेवादारों को सूचित करते हैं। जो उस आंकलन के हिसाब से भोजन तैयार करके अपनी गाड़ियों में भेज रहे हैं।

तहसील कार्यालय में प्रशासन की ओर से तैयार कराया जा रहा खाना।

तहसील कार्यालय में प्रशासन की ओर से तैयार कराया जा रहा खाना।

खबरें और भी हैं…



Source