करनाल में किसानों का धरना LIVE: ACS और 13 किसान नेताओं के बीच आज फिर होगी वार्ता; SDM पर दर्ज हो सकता है केस, मृतक के बेटे को नौकरी तय

0
37
Article Top Ad


करनाल9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जिला सचिवालय के सभागार में किसानों के साथ बातचीत करते हुए ACS व अन्य अधिकारी।

करनाल जिले के सचिवालय में चल रहा किसानों का धरना आज खत्म हो सकता है। सुबह 9 बजे प्रशासन ने किसानों को बातचीत के लिए बुलाया है। इसमें किसान नेता राकेश टिकैत मुख्य रूप से पहुंचेंगे। उनके साथ अन्य किसान नेताओं का दल भी रहेगा। शुक्रवार देर रात तक चली बातचीत में हर बिंदू पर चर्चा हुई। ACS देवेंद्र सिंह ने किसानों की मांग पर सरकार के साथ बातचीत कर समझौते के संकेत दिए।

बैठक में मौजूद एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया कि प्रशासन तत्कालीन SDM पर केस दर्ज कर जांच करने की बात पर आया है। वहीं मृतक के बेटे को डीसी रेट पर नौकरी की बात भी तय हुई है। इसके अलावा मृतक व घायलों को मुआवजा कितना दिया जाएगा, इस पर राशि तय नहीं हो पाई है, लेकिन उन्हें मुआवजा के तौर पर कुछ न कुछ जरूर दिया जाएगा। बैठक में DC निशांत कुमार यादव और SP गंगाराम पुनिया भी शामिल रहे।

बातचीत के लिए पहुंचे 13 किसान नेता
प्रशासन के न्योते पर गुरनाम सिंह चढूनी के नेतृत्व में सुरेश कौथ, रतन मान समेत 13 किसान नेता बातचीत करने पहुंचे। गुरनाम सिंह चढूनी ने बताया कि प्रशासनिक टीम से 4 घंटे तक बात हुई। इस दौरान किसानों की मांगे अधिकारियों के सामने रखीं। वार्ता के दौरान अधिकारियों ने कई बार चंडीगढ़ भी बात की।

इससे पहले शुक्रवार सुबह 8 बजे पुलिस-पैरामिलिट्री कर्मचारियों की ड्यूटी बदलने से धरनास्थल पर हलचल शुरू हुई। वहीं किसानों ने राष्ट्रगान के साथ धरने की शुरुआत की। दोपहर बाद भाकियू हरियाणा के अध्यक्ष गुरनाम चढूनी ने कहा कि प्रशासन की ओर से वार्ता का कोई मैसेज आया तो किसान जरूर जाएंगे।

आज महापंचायत में होगी आंदोलन की समीक्षा
11 सितंबर को महापंचायत में आंदोलन के 5 दिनों की समीक्षा की जाएगी। चढूनी ने बताया कि प्रदेश के सभी किसान संगठनों के नेता और संयुक्त मोर्चा के पदाधिकारी पंचायत में भाग लेंगे। धरना लगातार बढ़ रहा है और व्यवस्थाएं भी बेहतर हो रही हैं।

वहीं भाकियू असंध ब्लॉक प्रधान जोगिंद्र सिंह झींडा ने कहा कि अगर सरकार इंटरनेट बंद नहीं करती हो धरने की हजारों की भीड़ लाखों में बदल जाती। कुरुक्षेत्र के किसान संजीव ने कहा कि धरने पर पहले दिन से ज्यादा किसान आए। कुछ किसान सिंघु बॉर्डर से करनाल के लिए धरने पर आने के लिए चले हैं। दूसरे स्थानों से भी किसान आ रहे हैं। लगातार भीड़ बढ़ रही है।

7 सितंबर से चल रहा है सचिवालय पर धरना
बसताड़ा में हुए लाठीचार्ज के विरोध में किसानों ने घरौंडा की अनाज मंडी में एक महापंचायत का आयोजन किया गया था। इसमें प्रदेश के सभी किसान संगठनों व संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। इसमें तीन मांगों को रखते हुए सात दिन का समय दिया गया।

किसानों नेताओं की मांग है कि लाठीचार्ज का आदेश देने वाले SDM आयुष सिन्हा को बर्खास्त किया जाए। मृतक के बेटे को नौकरी और परिवार को 25 लाख रुपए के मुआवजे के साथ घायलों को दो-दो लाख रुपए की मदद दी जाए। जब किसानों के दिए समय के अनुसार मांगे नहीं मानी तो उन्होंने 7 सितंबर को करनाल की अनाज मंडी में महापंचायत का आयोजन कर सचिवालय का घेराव किया। जो पांचवें दिन भी जारी है।

खबरें और भी हैं…



Source