भारत में क्यों और कैसे मनाया जाता है राष्ट्रीय खेल दिवस, किस वजह से इस बार देरी से किया जाएगा सेलिब्रेट

0
22
Article Top Ad


भारत में हर साल खेल को बढ़ावा देने के लिए 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के तौर पर मनाया जाता है। हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद का इस दिन जन्म हुआ था और उनकी याद में खेल दिवस को मनाया जाता है। ध्यानचंद ने ओलंपिक खेलों में भारत का झंड़ा लहराया था और तीन बार हॉकी में देश को इन खेलों में गोल्ड मेडल जिताया था। स्पोर्ट्स डे के मौके पर देश के राष्ट्रपति द्रोणाचार्य, मेजर ध्यानचंद और अर्जुन अवॉर्ड देकर खिलाड़ियों को सम्मानित करते हैं। राष्ट्रपति भवन में सभी खिलाड़ी और कोचों को पुरस्कार से नवाजा जाता है। 

IND vs ENG: कप्तान विराट कोहली ने वापसी का दिलाया भरोसा, कहा- एडिलेड में 36 रनों पर ऑलआउट होने के बाद भी किया था कमबैक

ध्यानचंद की अगुवाई में भारतीय टीम हॉकी के खेल में हमेशा टॉप पर रही। ध्यानचंद का कद हॉकी में उतना ही बड़ा माना जाता है जितना क्रिकेट में सर डॉन ब्रैडमैन और फुटबॉल में पेले का है। ध्यानचंद ने लगातार तीन ओलंपिक में भारत को गोल्ड मेडल दिलाकर देश का मन बढ़ाया था। ये ओलंपिक साल 1928  में एम्सटर्डम , 1932 में लॉस एंजिल्स और 1936 में बर्लिन में खेले गए थे। मेजर ध्यानचंद को साल 1965 में हॉकी को अपना पूरा जीवन समर्पित करने के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। भारत के इस महान खिलाड़ी के बारे में कहा जाता था कि वह जब हॉकी स्टिक लेकर  मैदान पर उतरते थे तो गेंद उनकी स्टिक में ऐसी चिपकी रहती थी, जैसे मानो किसी ने उस पर चुंबक लगा रखी हो। ऐसा ही संदेह होने पर एकबार उनकी स्टिक को तोड़कर जांच भी की गई थी।

IND vs ENG: आखिरी क्यों स्पिनर्स के खिलाफ भी बैटिंग करते समय कैप की जगह पर हेलमेट ही पहनते हैं इंग्लैंड के बल्लेबाज, यह है वजह

राष्ट्रीय खेल दिवस पहली बार साल 2012 में मनाया गया था। इसके बाद से हर साल 29 अगस्त को इसको मनाया जाता है। हालांकि, इस साल स्पोर्ट्स डे को देर से मनाने का फैसला लिया गया है। दरअसल, सरकार चाहती है कि इस बार खिलाड़ियों को मिलने वाले अवॉर्ड का चयन पैनल टोक्यो पैरालंपिक में भाग लेने वाले पैरा खिलाड़ियों के प्रदर्शन को भी इनमें शामिल करे। इसी वजह से इसको देरी से मनाने का फैसला लिया गया है। हाल ही में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया था कि खेल रत्न अवॉर्ड को अब राजीव गांधी की बजाए मेजर ध्यानचंद के नाम से जाना जाएगा।
 

संबंधित खबरें



Source