31 अगस्त तक अफगानिस्तान से लोगों को सुरक्षित निकाल लिए जाने की उम्मीद: जो बाइडेन

0
70
Article Top Ad


अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से हजारों लोग देश छोड़ कर जा चुके हैं. अमेरिकी सेना ने भी अपने लोगों को देश से बाहर सुरक्षित ले जाने की मुहिम तेज कर दी है. अमेरिका सेना को 31 अगस्त तक इस मुहिम को पूरा कर लेने की उम्मीद है. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस बारे में जानकारी दी है. इससे पहले तालिबान ने कहा था कि यदि अमेरिकी सेना 31 अगस्त तक वापस नहीं जाती है तो इसका परिणाम बुरा हो सकता है. 

जो बाइडेन ने कहा, ‘वर्तमान में हम 31 अगस्त तक इस मुहिम को समाप्त करने की उम्मीद कर रहे हैं. जितनी जल्दी हम इसे समाप्त कर लेंगे. उतना ही बेहतर होगा. लेकिन 31 अगस्त तक पूरा होना इस बात पर निर्भर करता है कि तालिबान सहयोग करना जारी रखता है या नहीं और उन लोगों को हवाई अड्डे तक पहुंच की अनुमति देता है, जिसे हम बाहर ले जा रहे हैं. तालिबान को यह सुनिश्चित करना होगा कि वह हमारी इस मुहिम में कोई बाधा ना डाले.’

जो बिडेन ने कही ये बड़ी बात 

उन्होंने कहा, ‘G7 लीडर्स, यूरोपीय संघ, नाटो और संयुक्त राष्ट्र तालिबान के प्रति हमारे दृष्टिकोण में एकजुट होने के लिए सहमत हुए हैं.’ अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने व्हाइट हाउस से कहा, ‘संयुक्त राज्य अमेरिका ने 14 अगस्त के बाद से अफगानिस्तान से लगभग 70,700 लोगों को निकालाने में मदद की है. जुलाई के अंत से अब तक अमेरिका ने लगभग 75,900 लोगों को स्थानांतरित कर दिया है.’

मंगलवार को निकाले गए सर्वाधिक लोग

गौरतलब है कि अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान से अपने नागरिकों और सहयोगियों का सुरक्षित निकालने का मिशन शुरू किए जाने के बाद से मंगलवार को सर्वाधिक लोगों को विमानों की मदद से बाहर निकाला. वहीं, दूसरी ओर तालिबान ने संकेत दिया है कि वह जल्द ही लोगों को बाहर निकालने के काम पर रोक लगा सकता है. व्हाइट हाउस ने कहा कि मंगलवार सुबह तक 24 घंटे की अवधि में लगभग 21,600 लोगों को तालिबान के कब्जे वाले अफगानिस्तान से बाहर निकाला. इससे एक दिन पहले लगभग 16,000 लोगों को निकाला गया था.

ये भी पढ़ें :-

Taliban Warns US: तालिबान ने फिर अमेरिका को दी काबुल छोड़ने की चेतावनी, कहा- अफगानी लोगों का रेस्क्यू बंद करो

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान में गहराते संकट के बीच तालिबान ने महिला सरकारी कर्मचारियों से अभी घर पर ही रहने को कहा, जानें वजह





Source