कोरोना से अभी हुए हैं ठीक तो नई बीमा पॉलिसी खरीदने के लिए करना होगा इतना इंतजार, ये है नियम

0
11
Article Top Ad


Life Insurance Policy New Rule: कोरोना महामारी शुरू होने के बाद दुनियाभर में करोड़ों लोग इस बीमारी से संक्रमित हुए हैं. रोजाना हजारों की संख्या में भारत में भी संक्रमितों का आंकड़ा रहा है. ऐसे में कोरोना से ठीक होने के बाद अगर आप लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी (Life Insurance company) लेने की सोच रहे हैं तो आपको कुछ दिन का इंतजार करना होगा. आपको बता दें कि है कि कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण से उबरने के बाद आपको कोई भी जीवन बीमा पॉलिसी (Life Insurance Policy) लेने के लिए कम से कम तीन महीने का इंतजार करना होगा. सभी इंश्योरेंस पॉलिसी (Insurance Policy) देने वाली कंपनियों ने सभी बीमारी की तरह ही कोरोना में भी वेटिंग पीरियड (Waiting Period) का नियम लागू कर दिया है.

आपको बता दें कि वेटिंग पीरियड की यह शर्त सिर्फ जीवन बीमा पॉलिसी के लिए ही लागू की गई है. एक रिपोर्ट में यह सामने आया है कि कोरोना वायरस के बाद लोगों में ज्यादा मृत्यु दर (Mortality Rate) को देखते हुए ही यह नियम लागू किया है.

ये भी पढ़ें: Post Office Scheme: पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में हर दिन करें महज 95 रुपये का करें निवेश, मैच्योरिटी पर मिलेंगे 14 लाख रुपये

ज्यादा हो रही मौतों के कारण इंश्योरेंस सेक्टर हो रहा प्रभावित

एक रिपोर्ट के मुताबिक लोगों को किसी भी तरह का कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) होने के बाद तय मानकों के अनुसार ही बीमा लेने के लिए कहा गया है. इसके लिए कंपनियों द्वारा स्टैंडर्ड वेटिंग पीरियड (Standard Waiting Period) नॉर्म्स भी दिए गए हैं. पिछले दो साल में कोरोना वायरस के कारण हुई मौतों से इंश्योरेंस सेक्टर (Insurance Sector) बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुआ है.

ये भी पढ़ें: Post Office Scheme: पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में हर दिन करें महज 95 रुपये का करें निवेश, मैच्योरिटी पर मिलेंगे 14 लाख रुपये

भारत ही नहीं पूरी दुनिया में यह नियम

आपको बता दें कि पहले भी बीमा कंपनियों ने वेटिंग पीरियड का नियम लागू कर रखा था जिसमें कई बीमारियों के इलाज के बाद कुछ दिन तक आप किसी तरह की जीवन बीमा पॉलिसी नहीं ले सकते थें. अब उन बीमारियों की लिस्ट में कोरोनावायरस को भी जोड़ दिया गया है. बता दें कि यह नियम केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर के लिए है. कोरोना वायरस के बाद मृत्यु दर (Mortality after Coronavirus Infection) में बढ़ोतरी के बाद यह नियम लागू किया गया है.  



Source