डाक घर की इन दो स्कीम्स में निवेश है फायदे का सौदा, मिलेगा FD एफडी से ज्यादा ब्याज

0
86
Article Top Ad


Post Office Saving Schemes: पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स निवेश की लिहाज से बहुत अच्छे ऑप्शन हैं. इनमें से कई स्कीम्स में निवेश कर टैक्स भी बचाया जा सकता. सबसे बड़ी बात इन स्कीम्स की ये है कि इनमें निवेश करने पर आपका पैसा सुरक्षित रहता है.

आज हम आपको डाक घर की ऐसी ही दो स्कीम्स के बारे में बता रहे हैं जिनमें निवेश कर आप 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक के निवेश पर टैक्स बचा सकते हैं. साथ ही इनमें एफडी से ज्यादा ब्याज आपको मिलेगा. देश का सबसे बड़ा बैंक SBI फिक्स्ड डिपॉजिट पर अधिकतम 5.4% ब्याज दे रहा है. यह दो स्कीम हैं – पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) और नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC). जानते हैं इनके बारे में.

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)

  • NSC में निवेश पर 6.8% सालाना ब्याज मिल रहा है.
  • ब्याज की गणना सालाना आधार पर होती है, लेकिन ब्याज की राशि निवेश की अवधि होने पर ही दी जाती है.
  • इस स्कीम में न्यूनतम 1000 रुपए निवेश करना होगा. निवेश की कोई अधिकतम सीमा नहीं है.
  • NSC खाते को किसी नाबालिग के नाम पर और 3 वयस्कों के नाम पर जॉइंट अकाउंट खोला जा सकता है.
  • 10 साल से ज्यादा उम्र के माइनर भी परैंट्स की देखरेख में खाता खुलवा सकते हैं.
  • निवेश करने पर आप इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक की रकम पर टैक्स बचा सकते हैं.

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF)

  • फिलहाल डाक घर पब्लिक प्रॉविडेंट फंड खातों में जमा राशि पर 1% ब्याज मिल रहा है.
  • यह योजना EEE स्टेटस के साथ आती है. इसमें तीन जगह टैक्स लाभ मिलता है. योगदान, ब्याज आय और मैच्योरिटी के समय मिलने वाली राशि, तीनों ही टैक्स फ्री होती हैं.
  • आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट का लाभ मिलता है.
  • पीपीएफ खाता केवल 500 रुपए से खोला जा सकता है. लेकिन बाद में हर साल 500 रुपए एक बार में जमा करना जरूरी है.
  • इस अकाउंट में हर साल अधिकतम 1.5 लाख रुपए ही जमा किए जा सकते हैं.
  • यह स्कीम 15 साल के लिए है, जिससे बीच में नहीं निकला जा सकता है. लेकिन इसे 15 साल के बाद 5-5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है.

यह भी पढ़ें:

कई तरह से बैंक से फायदेमंद है पोस्ट ऑफिस में बचत खाता खोलना, जानिए कैसे 

पोस्ट ऑफिस की स्कीम में निवेश करने पर आपका पैसा कितने दिनों में होगा डबल, जानें



Source