IPO के जरिए फंड जुटाने की तैयारी में फैबइंडिया, अजीम प्रेमजी बेचेंगे अपनी हिस्सेदारी!

0
25
Article Top Ad


गारमेंट्स की रिटेल सेलर कंपनी फैबइंडिया आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के माध्यम से एक अरब डॉलर तक जुटाने का विचार कर रही है। माना जा रहा है कि कंपनी अपने आईपीओ के प्रबंधन के लिए एसबीआई कैपिटल मार्केट्स, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज और जेपी मॉर्गन सहित कई निवेश बैंकों के साथ बातचीत कर रही है। 
कब तक मंजूरी की उम्मीद:  फैबइंडिया के नवंबर अंत तक आईपीओ का मसौदा दस्तावेज, बाजार नियामक सेबी के पास जमा करने की उम्मीद है। इसके बाद सेबी के मंजूरी का इंतजार होगा। आमतौर पर सेबी एक या दो महीने में मंजूरी दे देता है। कहने का मतलब ये है कि फैबइंडिया का आईपीओ चालू वित्त वर्ष में आ सकता है।

अजीम प्रेमजी-नंदन नीलेकणि की हिस्सेदारी: कंपनी द्वारा आईपीओ के माध्यम से लगभग 25-30 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की उम्मीद है। इसके मौजूदा शेयरधारक, जैसे अजीम प्रेमजी का निजी इक्विटी फंड प्रेमजीइन्वेस्ट, कंपनी में आंशिक हिस्सेदारी बेच सकते हैं। इंफोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलेकणि और उनकी पत्नी रोहिणी नीलेकणि भी कंपनी की शेयरधारक हैं। 

वेदांत फैशन्स का भी आ रहा आईपीओ: इसके अलावा शादी-ब्याह और उत्सव के लिए ‘मान्यवर’ ब्रांड से परिधान बनाने वाली कंपनी वेदांत फैशन्स लिमिटेड ने आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के सेबी के समक्ष दस्तावेज जमा किए हैं। वेदांत फैशन्स लिमिटेड ने आईपीओ के जरिये प्रवर्तक और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 3,63,64,838 इक्विटी शेयरों की बिक्री की पेशकश की है।

बिकने वाला है इंडियाबुल्स का ये कारोबार, डील को CCI से मिली मंजूरी

बिक्री के लिए प्रस्ताव में राइन होल्डिंग लि. के 1.74 करोड़ शेयर, केदारा कैपिटल अल्टरनेटिव इन्वेस्टमेंट फंड-केदारा कैपिटल एआईएफ-आई के 7.23 लाख शेयर तक और रवि मोदी फैमिली ट्रस्ट द्वारा 1.81 करोड़ तक के शेयर शामिल हैं।

आपको बता दें कि वेदांत फैशन्स का सबसे चर्चित पारंपरिक परिधान शादी और उत्सव ब्रांड ‘मान्यवर’ है। इसकी मौजूदगी पूरे देश में है। कंपनी के इसके अलावा त्वमेव, मंथन, मोहे और मेबाज़ जैसे ब्रांड भी है।



Source