SBI का अनुमान: चौथी तिमाही में GDP में 1.3% की ग्रोथ संभावना, लेकिन 2020-21 में इकोनॉमी में 7.3% की गिरावट की आशंका

0
64
Article Top Ad


  • Hindi News
  • Business
  • GDP Growth Potential Of 1.3% In Fourth Quarter, But Economy Is Expected To Decline By 7.3% In 2020 21

मुंबईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

मौजूदा समय में देश कोरोना की दूसरी लहर से गुजर रहा है। इस बीच आर्थिक मौर्चे पर राहत की खबर है। फाइनेंशियल इयर 2020-21 की चौथी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में लगातार दूसरी बार पॉजिटिव ग्रोथ की संभावना है।

चौथी तिमाही में पॉजिटिव ग्रोथ का अनुमान
SBI की रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक मार्च तिमाही में GDP में 1.3% की ग्रोथ रहेगी। वहीं, पूरे फाइनेंशियल इयर में यह 7.3% गिर सकता है। नेशनल स्टैस्टिकल ऑफिस (NSO) चौथी तिमाही और सालाना GDP का अनुमान 31 मई को जारी करेगा। पूरे फाइनेंशियल इयर में GDP 7.3% गिर सकता है। पहले 7.4% के गिरावट का अनुमान था।

भारत की GDP 5वीं सबसे तेज बढ़ती इकोनॉमी
स्टेट बैंक की यह रिपोर्ट नाउकास्टिंग मॉडल के साथ 41 हाई-फ्रीक्वेंसी इंडिकेटर्स के आधार पर तैयार किया गया। इसमें इंडस्ट्री एक्टिवटी, सर्विस एक्टिविटी और स्टेट बैंक इंस्टिट्युट ऑफ लीडरशिप (SBIL) कोलकाता में ग्लोबल इकोनॉमी को शामिल किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक 25 देशों के साथ अभी भी 5वीं सबसे तेजी से बढ़ती इकोनॉमी है।

पिछले साल के समान अवधि से कम GDP घाटा का अनुमान
अनुमान के मुताबिक फाइनेंशियल इयर 2021-22 की पहली तिमाही में लॉमिनल GDP घाटा 6 लाख करोड़ रुपए तक हो सकता है। यह पिछले फाइनेंशियल इयर 2020-21 की पहली तिमाही में 11 लाख करोड़ रुपए का था। रियल GDP घाटा 4 लाख से 4 लाख 50 हजार करोड़ रुपए के बीच रह सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि रियल GDP ग्रोथ भी 10-15% के दायरे में रहने का अनुमान है। यह RBI के अनुमान 26.2% से कम है।

सभी बैंकों के डिपॉजिट और क्रेडिट में गिरावट
रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल और मई में सभी बैंकों के डिपॉजिट और क्रेडिट दोनों में गिरावट रही। हालांकि, फाइनेंशियल इयर 2020-21 से डिपॉजिट के ट्रेंड में बदलाव हुआ है। इस दौरान डिपॉजिट बढ़कर 2.8 लाख करोड़ रुपए रहा। चालू वित्त वर्ष 2021-22 में 7 मई तक डिपॉजिट का आंकड़ा 1 लाख करोड़ रुपए रहा।

खबरें और भी हैं…



Source