ऑनलाइन जमाने में ऐसे रखें अपनी दिमागी सेहत का ध्यान, काम आएंगे ये 5 टिप्स

0
37
Article Top Ad


मौजूदा समय में ऑनलाइन रहना काफी महत्वपूर्ण है। इससे लोगों से जुड़े रहने, सीखने और अच्छे कंटेंट को साझा करने का बेहतरीन अवसर मिलता है, लेकिन इसके साथ ही कई चुनौतियां भी आती हैं। सोशल मीडिया या इंटरनेट ने कभी न कभी आपको तनावग्रस्त, ईर्ष्यालु और अकेला महसूस कराया ही होगा। इस दौरान आपके आत्मसम्मान को भी चोट पहुंची होगी। इस सब से बचने के लिए यहां हम आपको कुछ टिप्स दे रहे हैं, जो ऑनलाइन आपके  मानसिक स्वास्थ्य को ऊर्जावान कर देगा।

1.  स्क्रॉल करने से बचें-
सबसे पहले तो इस बात का ख्याल रखें कि सोशल मीडिया और ऑनलाइन सामग्री आपकी भावनाओं, विचारों या कार्यों को कैसे प्रभावित कर रही है। इससे आपको कैसा लगता है? क्या समाचार पढ़ना आपको सूचित या तनावग्रस्त महसूस कराता है? क्या किसी पार्टी में अपने दोस्तों की तस्वीरें देखकर आपको अच्छा लगता है या ईर्ष्या होती है? क्या आप ब्रेकिंग न्यूज के बारे में जानने के लिए सुबह सबसे पहले अपने फोन की जांच करते हैं? आप ऑनलाइन क्यों हैं और यह आपको कैसा महसूस कराता है। इसकी पहचान करे। यहां यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि आप जो कुछ भी ऑनलाइन देखते हैं वह वास्तविक नहीं है। 

2. सावधान रहें-
आपको ऐसे बहुत से ऑनलाइन टूल और सामग्री मिल जाएंगे, जो मानसिक स्वास्थ्य और भलाई के सभी पहलुओं का समर्थन करने में सहायता करते हैं। मेडिटेशन ऐप से आपको आराम और ध्यान करने में मदद मिलेगी। ऐसे प्लेटफॉर्म भी हैं, जो आपकी पहचान और स्वयं की भावना को विकसित करने में मदद कर सकते हैं। इनसे जुड़े रहने की आदत डालें। बहुत सारे बेहतरीन ऑनलाइन शिक्षण उपकरण हैं जहां आप कुछ नया करने की कोशिश कर सकते हैं, जैसे कि ड्राइंग या योग। साथ ही ऑनलाइन व्यायाम कक्षाएं आपको स्वस्थ रहने और आराम करने में मदद कर सकती हैं। एथलीट, गायकों, लेखकों या अन्य युवा लोगों की सकारात्मक और प्रेरक सामग्री और रचनाकारों का अनुसरण करने का प्रयास करें।  

3. अपने साथ-साथ दूसरों की सुरक्षा करें-
अपने सभी सोशल मीडिया प्रोफाइल पर गोपनीयता सेटिंग्स की जांच कर लें। जब उपयोग में न हो तो वेबकैम को बंद करे दें। ऐप और सेवाओं के लिए ऑनलाइन साइन अप करते समय सावधान रहें। खासकर अपना पूरा नाम, पता या फोटो देते समय। यदि आप किसी ऐसी चीज को लेकर चिंतित हैं, जिसे आपने ऑनलाइन देखा या अनुभव किया है, तो आपको माता-पिता या शिक्षक से बात करनी चाहिए। इसके साथ ही प्लेटफॉर्म पर घटना की रिपोर्ट करनी चाहिए। साथ ही अधिक सहायता के लिए मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं लें। इस दौरान आप दूसरों की भी मदद कर सकते हैं, उनके ऑनलाइन अनुभवों को ध्यान में रखकर। 

4. ध्यान रखें, शब्द मायने रखते हैं-
अपने दोस्तों, परिवार और सहपाठियों के साथ सकारात्मक, सहायक सामग्री साझा करें। साथ ही अच्छे कार्यों के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करें। उदाहरण के लिए, आप किसी को यह बताने के लिए संपर्क कर सकते हैं कि आप उनके बारे में सोच रहे हैं या उनके द्वारा साझा की गई पोस्ट पर सकारात्मक टिप्पणी दे सकते हैं। किसी संदेश या पोस्ट पर नकारात्मक प्रतिक्रिया देने से पहले कुछ देर विचार करें। यदि आप ऐसे संदेश या सामग्री देखते हैं या प्राप्त करते हैं, जिन्हें आप अपमानजनक मानते हैं, तो आपको उसे ब्लॉक कर देना चाहिए और उसकी रिपोर्ट करें। शब्द मायने रखते हैं और हम जो साझा करते हैं उसके बारे में ध्यान से सोचना महत्वपूर्ण है। हम सभी में दयालु होने और किसी का दिन बनाने की शक्ति है। 

यह भी पढ़े : डायबिटीज आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा सकती है, विशेषज्ञ से जानिए उन्हें स्वस्थ रखने के टिप्स

5. मौजूदगी बनाए रखें- 
ऑनलाइन और ऑफलाइन दुनिया के बीच की रेखाएं तेजी से धुंधली होती जा रही हैं। इससे वर्तमान क्षण में जीना मुश्किल हो जाता है। क्या आप कभी मुसीबत में पड़े हैं? अगर हां तो आप इसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करें। साथ ही अपने मित्र की कहानियों को स्क्रॉल करने की बजाय उसे कॉल करें या उनसे मिलें। सोशल मीडिया से समय-समय पर ब्रेक लेना और वास्तविक जीवन में भी दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताना महत्वपूर्ण है। यथार्थवादी और व्यक्तिगत लक्ष्य निर्धारित करने की कोशिश करें, उदाहरण के लिए अपना फोन न उठाएं या दिन के पहले घंटे के लिए ऑनलाइन न जाएं। ध्यान, टहलने जाने या किसी मित्र को बुलाने जैसी गतिविधियां एक समान उत्तेजना प्रदान करने में मदद करेंगी।



Source