क्या है ब्रेन फॉग? मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी इस बीमारी के लक्षण और सावधानियां जानें

0
35
Article Top Ad


Brain Fog Causes, Symptoms: कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) के हमले बीच कई ऐसी बीमारियां हैं जो लगातार अपना असर बनाए हुए हैं. हालांकि, इनका कोरोना से कोई लिंक नहीं है. लेकिन फिर भी इन्हें लेकर सतर्कता बरतनी जरूरी है. कोरोना वायरस के दौर जिन नई-नई बीमारियों के नाम सुनने में आए उनमें से एक है ब्रेन फॉग (Brain Fog). ये कोई मेडिकल टर्म नहीं है. बल्कि एक आम भाषा का शब्द है, जिसके जरिए दिमाग से जुड़ी कई समस्याओं के ग्रुप के बारे में बताया जाता है, जैसे याददाश्त कमजोर होना, ध्यान न लगना, सूचना को समझने में दिक्कत होना, थकावट रहना और इधर-उधर के विचार आना आदि. साधारण भाषा में कहें तो अगर आप छोटी-छोटी बातों को बार भूल रहे हैं या फिर आपके लिए अपनी ही कही बात को याद रखने में मुश्किल आ रही है, तो इसे ब्रेन फॉग (Brain Fog) कहते हैं. आमतौर पर इसे थकान, चिड़चिड़ापन और सुस्ती की भावना के रूप में जाना जाता है.

22 अक्टूबर 2021 को हिंदुस्तान अखबार की न्यूज रिपोर्ट में एक स्टडी का हवाला देते हुए छापा गया था कि कोरोना से ठीक हो चुके करीब 28 प्रतिशत लोगों ने ब्रेन फॉगिंग, मूड चेंज, थकान व एकाग्रता में कमी की शिकायत की है.

ब्रेन फॉग के लक्षण?
दिल्ली के उजाला सिग्नस अस्पताल (Ujala Cygnus Hospital) के निदेशक डॉ शुचिन बजाज (Shuchin Bajaj) ने हिंदुस्तान की न्यूज रिपोर्ट में बताया है कि ब्रेन फॉग के कारण व्यक्ति के व्यवहार में तेजी से बदलाव आता है. ऐसे लोगों में हमेशा थकान रहना, किसी काम में दिल न लगना, चिड़चिड़ापन, डिप्रेशन, अपनी पसंद के काम भी रुचि का आभाव, लगातार सिर दर्द, नींद न आ पाना और छोटी-छोटी बातें भूल जाना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं. डॉक्टर खून की जांच में इसका पता लग सकते हैं. जैसे शुगर या थायरॉइड का अनबैलेंस, किडनी आदि का फंक्शन सही न होना, या किसी संक्रमण का होना या शरीर में पोषक तत्वों की कमी भी ब्रेन फॉग के रूप में दिखाई देती है.

यह भी पढ़ें-
किसी वजह से अगर नहीं कर पाते हैं एक्सरसाइज तो इन तरीकों से खुद को रखें एक्टिव

ब्रेन फॉग के कारण
– नींद पूरी न होना
– स्क्रीन के साथ ज्यादा समय बिताना
– सेंट्रल नर्वस सिस्टम पर असर डालने वाली समस्याएं, जैसे मल्टीपल स्केलेरोसिस
– जिन रोगों में शरीर के अंदरूनी हिस्सों में सूजन आने की आशंका रहती है, या ब्लड शुगर का लेवल ऊपर-नीचे होने लगता है, उस वजह से भी ब्रेन फॉग की स्थिति हो सकती है. जैसे डायबिटीज, हायपरथायरॉइड, डिप्रेशन, अल्जाइमर और एनीमिया.

यह भी पढ़ें-
Sunlight Benefits: सर्दियों में शरीर के लिए सनलाइट क्यों है जरूरी? जानें धूप लेने सही तरीका

ब्रेन फोग से बचने के लिए सावधानियां
– अपनी डाइट में अमीनो एसिड, विटामिन ए, बी, सी और ओमेगा 3 फैटी एसिड नियमित रूप से शामिल करें.
– दोपहर में कैफिन युक्त पेय न लें.
– शराब और स्मोकिंग से परहेज करें.
– रोज 15 मिनट धूप लें.
– नियमित एक्सरसाइज जरूर करें.
– लक्षणों के आधार पर डॉक्टर से एक्स रे, सीटी स्कैन, एमआरआई, एलर्जी टेस्ट आदि की सलाह भी ले सकते हैं.
– कई मामलों में दवाओं के साथ थेरेपी भी इस समस्या से निपटने में मददगार हो सकती है.

Tags: Health, Health News, Mental health



Source