जानिए, कैसे हुई दुनिया में पहली कोरोना वैक्सीन लगवाने वाले विलियम शेक्सपियर की मौत ?

0
41
Article Top Ad



डिजिटल डेस्क, दिल्ली। कोरोना महामारी ने साल 2020 से लेकर अब तक दुनियाभर में तबाही मचा रखी है। हर कोई इसके खत्म होने का बस इंतजार कर रहा है। ताकि वो अपनी सामान्य जिंदगी की तरफ दोबारा लौट सके। इस बीच वैज्ञानिकों और तमाम हेल्थ एक्सपर्ट ने बताया कि, कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने का एकमात्र तरीका वैक्सीनेशन है। इस बात को सुनकर दुनियाभर के देशों ने वैक्सीन बनाना शुरु कर दिया और वैक्सीन बनने के बाद इसे किसी इंसान के ऊपर ट्रायल करने की बारी आई। तो दुनिया में सबसे पहले वैक्सीन का ट्रायल विलियम शेक्सपियर पर किया गया। विलियम ने कोरोना वैक्सीन लगवाकर इतिहास रच दिया। लेकिन हाल ही में उनकी मौत भी हो गई। इस बात की पुष्टि ब्रिटिश मीडिया के हवाले से की गई। बता दें कि, विलियम को 8 दिसंबर साल 2020 में यूनिवर्सिटी अस्पताल कोवेंट्री और वारविकशायर में फाइजर नाम की कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई थी। 

जब विलियम की मौत हुई तो उनकी उम्र 81 वर्ष थी। विलियम के पूर परिवार ने बताया कि, शेक्सपियर की मौत कोरोना से नहीं बल्कि दूसरी बीमारी से हुई है। इसका कोरोना वायरस से कोई लेना-देना नहीं है। वहीं विलियम के एक मित्र के अनुसार, जो लोग भी उन्हें श्रद्धांजलि  देना चाहते है। उसका सबसे अच्छा तरीका हैं कि, आप कोरोना वैक्सीन लगवाए। कोवेंट्रीलाइव की रिपोर्ट की मानें तो, विलियम शेक्सपियर की मौत कोरोना वायरस से तो नहीं लेकिन वैक्सीन लगवाने वाले अस्पताल के अंदर एक लंबी बीमारी से लड़ते हुए हुई है। हालांकि, इसका कोरोना वायरस से किसी भी प्रकार का संबंध नहीं है।

बता दें कि, विलियम शेक्सपियर ने एक बेहद प्रसिद्ध कंपनी रोल्स रॉयस में किया और पैरिश नगर के चांसलर भी रह चुके है। शेक्सपियर ने एलेस्ले में तीन दशकों से अधिक समय तक अपने स्थानीय समुदाय की सेवा की थी और दुनिया की सेवा करने का जज्बा तो सभी ने देख ही लिया। जिस तरह से उन्होंने इतनी अधिक उम्र में कोरोना की पहली डोज लगवाकर इतिहास रचा हैं, इससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता हैं कि, वो कितने निडर और सेवा भाव इंसान थे। कुछ इंटरनेशनल मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात का जिक्र किया गया हैं कि, कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद विलियम काफी खुश थे और उन्होंने इस अनुभव को वंडरफुल बताया था। विलियम अपने पीछे पत्नी, दो लड़कों और पोते-पोतियों समेत भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं।



Source