सावधानी से खाएं लीची, हो सकती है एलर्जी, जानें इसके फायदे और नुकसान

0
40
Article Top Ad


Lychee Health Effects : गर्मी (Summer) के मौमस में आम के बाद अगर किसी मौसमी फल की बात आती है तो वो है लीची (Lychee) की. जी हां, गुलाबी रंग के इस मीठे गूदेदार फल में कई गुण है और यह स्‍वाद में भी किसी अन्‍य फल से कम नहीं. आयुर्वेद की बात करें तो लीची का प्रयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता रहा है. वेबएमडी के मुताबिक, यह खांसी, बुखार, किसी प्रकार के दर्द, पेशाब में किसी तरह की परेशानियों को दूर करने के लिए बहुत फायदेमंद (Benefits) है. इसके अलावा यह स्‍वेलिंग और दर्द को भी कम करता है. इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट भरपूर मात्रा में पाई जाती है जो इम्‍यूनिटी सिस्‍टम को मबजूत बनाने के साथ एजिंग प्रक्रिया को कम करती है.  लेकिन कुछ लोगों में लीची के सेवन से एलर्जी और साइड इफेक्‍ट्स (Side effects) की संभावना भी हो सकती है. तो आइए जानते हैं कि लीची खाने से किन लोगों को डॉक्‍टर की सलाह लेना जरूरी माना जाता है.

1.प्रेगनेंट और ब्रेस्‍ट फीडिंग महिला

प्रेगनेंट और ब्रेस्‍ट फीडिंग महिलाओं को लीची का उपयोग करना सुरक्षित है या नहीं इसको लेकर अभी भी कई शोध चल रहे हैं. ऐसे में खुद को सुरक्षित रखने के लिए बेहतर होगा कि आप लीची का सेवन ना ही करें या डॉक्‍टर की सलाह के बाद ही इसका सेवन करें.

2.एलर्जिक हों तो बचें

अगर आप एलर्जिक हैं और बर्च, सूरजमुखी के बीज और एक ही परिवार के अन्य पौधों, मगवॉर्ट और लेटेक्स से एलर्जी होती है तो इससे बचें. हो सकता है कि आपको लीची से भी किसी तरह की एलर्जी हो. आप चाहें तो डॉक्‍टर से एलर्जी टेस्‍ट भी करा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : कोरोना काल में लाइफ स्‍टाइल में शामिल करें ये 5 आदतें, बिना कुछ किए भी रहेंगे हेल्दी

 

3.ऑटो प्रतिरक्षा रोग

अगर आप ऑटोप्रतिरक्षा रोग जैसे कि मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस), ल्यूपस (सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, एसएलई), रुमेटीइड गठिया (आरए) या अन्य स्थितियां से जूझ रहे हैं तो लीची से बचें. यह इम्यून सिस्टम को अधिक सक्रिय कर सकती है और इससे ऑटो-इम्यून बीमारियों के लक्षण बढ़ सकते हैं.

4.डायबिटीज पेशेंट रहें दूर

लीची का अर्क ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है. यदि आपको डायबिटीज है और लीची का सेवन कर रहे हैं हो हो सकता है कि आपको शुगर लेवल कम होने की समस्‍या हो  जाए. ऐसे में डॉक्‍टर की सलाह लें और लगातार ब्लड शुगर मॉनिटर करते रहे.

5.सर्जरी हुई हो तो रहें दूर

दरअसल लीची ब्लड शुगर के स्तर को कम करता है इसलिए सर्जरी के दौरान और बाद में लीची से दूरी बनाएं. वर्ना हो सकता है कि आपके ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में समस्या आ जाए.  बेहतर होगा अगर आपको सर्जरी से गुजरना है तो सर्जरी के दिन से कम से कम 2 सप्ताह पहले लीची का सेवन बंद कर दें.

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज पेशेंट हैं तो इन फल और सब्जियों को कहें NO, जानें किसे करें डाइट में शामिल

6.लो ब्लड प्रेशर

वैसे तो लीची खाने से हाइपरटेंशन, तनाव, सांस की समस्या आदि में राहत मिलती है लेकिन अगर ज्यादा मात्रा में आप इसे खाते हैं तो इससे शरीर में ब्लड प्रेशर कम हो सकता है. इस वजह से शरीर में सुस्ती, बेहोशीपन, थकान की समस्या भी आ सकती है अगर आप ब्लड प्रेशर की दवाइयां खाते हैं तो लीची खाने में सावधानी बरतें और अपने डॉक्‍टर की सलाह के बिना लीची ना खाएं.



Source