कोरोना वैक्सीन की भारी किल्लत, सर्वे में 65% ने बताया- पिछले 30 दिनों में नहीं लग पाई डोज

0
29
Article Top Ad


कोरोना की तीसरी लहर की अगस्त-सितंबर में आने की आशंका जाहिर की जा रही है. इसकी वजह से सारा ध्यान वैक्सीनेशन पर दिया जा रहा है ताकि कोरोना के असर को कम किया जा सके. भारत सरकार की साल के अंत तक सभी वयस्कों को वैक्सीनेट करने की योजना है. अब तक 39 करोड़ लोगों को वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है. हालांकि चिंता वैक्सीनेशन की रफ्तार को लेकर उठा रही है क्योंकि जानकारों के मुताबिक 60 फीसदी आबादी को वैक्सीनेट करने में भारत काफी पीछे है.

जानकारों की तरफ से कहा जा रहा है कि भारत में रोजाना 80 से 90 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने की जरूरत है जबकि औसत रूप से पिछले सात दिनों में 39 लाख लोगों को वैक्सीन की डोज दी गई है.

वैक्सीन की धीमी रफ्तार ने बढ़ाई चिंता

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 18-4 साल के जिन 11 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई गई है उनमें सिर्फ 38 लाख ही वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हैं. पिछले 2 हफ्तों के दौरान पश्चिम बंगाल समेत दिल्ली गुजरात झारखंड महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने वैक्सीन स्टॉक खत्म होने का अलर्ट दिया. हालांकि केन्द्र आश्वस्त है कि आने वाले महीनों में वैक्सीन की आपूर्ति बढ़ाई जाएगी.

कई लोगों की तरफ से वैक्सीन उनके या उनके परिवार के सदस्य को न लग पाने के प्रति चिंता जाहिर करने के बाद लोकल सर्कल्स ने सर्वे कर पिछले 30 दिनों के दौरान वैक्सीनेशन को लेकर आई समस्या को समझने का प्रयास किया. सर्वे में 8931 लोगों से उनकी प्रतिक्रियाएं ली गई और भारत के 278 जिलों में यह सर्वे किया गया. इसमें 66 फीसदी प्रतिभागी पुरूष और 34 फीसदी महिलाएं थीं.

65 फीसदी ने कहा- पिछले 30 दिनों में नहीं लग पाई उन्हें या रिश्तेदार को वैक्सीन

सर्वे के दौरान जब यह पूछा गया कि जब वे या उनके परिवार का कोई सदस्य या फिर कोई रिश्तेदार पिछले 30 दिनों के दौरान वैक्सीन लगावने गया तो क्या वहां पर वैक्सीन खत्म हो चुकी थी?  इसके जवाब में 20 फीसदी ने कहा कि उनसे जुड़े चार-पांच लोगों के साथ ऐसा हुआ. 26 फीसदी ने कहा कि 2-3 उनके जुड़े लोगों के साथ ऐसा हुआ. 19 फीसदी ने कहा कि किसी एक के साथ ऐसा हुआ.  सिर्फ 21 फीसदी ने कहा कि उनके किसी परिवार या रिश्तेदार के साथ ऐसा नहीं हुआ. तो वहीं 14 फीसदी ने कहा कि वे इस बारे में कुछ नहीं कह सकते हैं. औसत तौर पर अगर देखें तोक 65 फीसदी नागरिकों को या उनके किसी परिवार या रिश्तेदार को पिछले 30 दिनों के दौरान वैक्सीन केन्द्र पर जाने के बावजूद वैक्सीन डोज नहीं लग पाई.



Source