पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बनने के बाद सिद्धू ने सोनिया, राहुल और प्रियंका का जताया आभार

0
22
Article Top Ad


चंडीगढ़: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नवजोत सिंह सिद्धू को पार्टी की पंजाब इकाई का नया अध्यक्ष नियुक्त किया है. गांधी ने राज्य के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की कड़ी आपत्ति के बावजूद यह फैसला लिया. इस बीच अध्यक्ष बनने पर नवजोत सिंह सिद्धू की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है. सिद्धू ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा का आभार जताते हुए कहा है कि मेरी यात्रा अब शुरू हुई है.

नवजोत सिंह सिद्धू ने क्या कहा?

नवजोत सिंह सिद्धू ने ट्वीट करके कहा है, ‘’मैं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा का आभारी हूं, उन्होंने मुझपर विश्वास किया और मुझे यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी.’’ उन्होंने कहा, ‘’पंजाब मॉडल और हाईकमान के 18 सूत्रीय एजेंडे के माध्यम से हम ‘जितेगा पंजाब’ के मिशन को पूरा करने के लिए कांग्रेस परिवार के हर सदस्य के साथ काम करेंगे. मेरी यात्रा अब शुरू हुई है.’’

इतना ही नहीं सिद्धू ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के साथ अपने पिता की एक तस्वीर भी शेयर की है. उन्होंने लिखा है, ‘’समृद्धि, विशेषाधिकार और स्वतंत्रता को न केवल कुछ लोगों के बीच, बल्कि सभी के साथ साझा करने वाले मेरे पिता एक कांग्रेस कार्यकर्ता शाही घराने को छोड़ कर आजादी की लड़ाई में शामिल हुए थे. देशभक्ति के लिए उन्हें मौत की सजा सुनाई गई थी. फिर किंग्स एमनेस्टी से राहत मिलने के बाद वे डीसीसी के अध्यक्ष, विधायक, एमएलसी और एडवोकेट जनरल बने.’’

चार कार्यकारी अध्यक्षों की भी नियुक्ति

बता दें कि सोनिया गांधी ने अगले विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सिद्धू की सहायता के लिए चार कार्यकारी अध्यक्षों की भी नियुक्ति की है. ये नियुक्तियां पार्टी में आंतरिक कलह के बाद हुईं है, जिससे पार्टी की प्रदेश इकाई सिंह और सिद्धू के प्रति निष्ठा रखने वाले गुटों में विभाजित हो गई. पंजाब में 2017 के पिछले विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी से कांग्रेस में शामिल हुए सिद्धू ने पिछले कुछ दिनों में समर्थन जुटाने के अपने प्रयास तेज कर दिए हैं और कई विधायकों और नेताओं से मुलाकात की है.

यह भी पढ़ें-

Explained: बच्चों के लिए बड़ा खतरा है ऑनलाइन गेमिंग, माता-पिता का बैंक बैलेंस हो रहा खाली, इससे कैसे बचें?

Explained: छह साल में राजद्रोह के 326 मामले दर्ज, महज छह को सजा, असम में सबसे ज्यादा केस



Source