पीएम दौरे के बाद पंजाब में मिले हेंड ग्रेनेड: ​​​​​​​मोगा में गिरफ्तारी से पहले पुलिस पर तानी पिस्तौल; कनाडा बैठे A केटेगिरी गैंगस्टर के टच में थे

0
39
Article Top Ad


चंडीगढ़17 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पुलिस की गिरफ्त में गैंगस्टर के साथी

पंजाब में PM नरेंद्र मोदी की सुरक्षा चूक के बीच पाकिस्तानी बोट के बाद अब मोगा में 2 हेंड ग्रेनेड मिले हैं। मोगा पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिनसे 2 पिस्टल और जिंदा कारतूस भी बरामद हुए हैं। खतरनाक बात यह है कि यह तीनों आरोपी कनाडा में बैठे A कैटेगिरी के गैंगस्टर अर्शदीप सिंह उर्फ अर्श डल्ला के संपर्क में थे। उनकी लगातार गैंगस्टर डल्ला से बातचीत हो रही थी। इस बरामदगी के बाद पंजाब पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है। यह बात इसलिए अहम है क्योंकि पीएम नरेंद्र मोदी मोगा रोड के जरिए ही फिरोजपुर जा रहे थे।

बरामदगी की जानकारी देते SSP चरणजीत सोहल

बरामदगी की जानकारी देते SSP चरणजीत सोहल

गाड़ी रोकनी चाही तो बैरिकेड तोड़ा

मोगा के SSP चरणजीत सोहल ने बताया कि गांव चुगावा की तरफ से आते वक्त पुलिस ने PB04AC-2831 नंबर की गाड़ी को रोका। पुलिस ने रुकने का इशारा किया तो उन्होंने गाड़ी भगा ली। आरोपियों ने पुलिस का बैरिकेड भी तोड़ दिया और कर्मचारियों को भी कुचलने की कोशिश की। हालांकि कर्मचारियों ने बैरिकेड फेंककर गाड़ी को रोक लिया।

आरोपियों को पेशी के लिए लेकर आई पुलिस की टीम

आरोपियों को पेशी के लिए लेकर आई पुलिस की टीम

नीचे उतरते ही तानी पिस्तौल, पुलिस पर फेंका ग्रेनेड

जब पुलिस ने गाड़ी को रोका ड्राइवर और उसके साथ बैठे आरोपियों ने नीचे उतरकर पुलिस पर ही पिस्तौल तान दी। पीछे बैठे आरोपी ने पुलिस पार्टी पर हेंड ग्रेनेड फेंककर मारने की कोशिश की। जिस पर पुलिस ने तुरंत सतर्कता बरतते हुए तीनों को काबू कर लिया।

यह हथियार किए गए बरामद

पकड़े गए आरोपियों की पहचान गुरप्रीत सिंह गोपी, वरिंदर सिंह विंदा और बलजीत सिंह के रूप में हुई। इनसे 2 हेंड ग्रेनेड, 9 MM के दो पिस्तौल, 3 मैगजीन और 18 जिंदा कारतूस बरामद किए गए। आरोपियों पर अब आर्म्स एक्ट, बम एक्ट और कातिलाना हमले का केस दर्ज कर लिया गया है।

डल्ला ने किसी धार्मिक जगह पर फेंकने को कहा था ग्रेनेड

आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि वह कनाडा में बैठे गैंगस्टर के संपर्क में थे। गैंगस्टर डल्ला ने उन्हें यह ग्रेनेड उपलब्ध कराए थे। जिसे उन्हें किसी धार्मिक जगह पर फेंकना था। इसके लिए उन्हें पैसे मिलने थे। माना जा रहा है कि इसके जरिए पंजाब का माहौल खराब करने की कोशिश थी। हालांकि पुलिस का कहना है कि अभी इनसे गहराई से पूछताछ की जा रही है कि उनकी मंशा क्या थी।

खबरें और भी हैं…



Source