जम्मू में आतंकी वारदातें क्यों बढ़ रही हैं: कश्मीर में नाकामी के बाद आतंकी संगठन जम्मू में बड़ा हमला करने की फिराक में

0
25
Article Top Ad


  • Hindi News
  • National
  • After The Failure In Kashmir, The Terrorist Organization Is Trying To Carry Out A Big Attack In Jammu.

जम्मू5 मिनट पहलेलेखक: मोहित कंधारी

  • कॉपी लिंक

सैन्य विशेषज्ञों का आकलन है कि इस क्षेत्र में पाक स्थित आतंकी संगठनों ने प्रशिक्षण शिविरों को सक्रिय कर दिया है।

कश्मीर में नाकामी के बाद लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन जैसे आतंकी संगठन जम्मू संभाग में आतंक फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। राजौरी और पुंछ के सीमांत जिलों में नियंत्रण रेखा से प्रशिक्षित आतंकियों को धकेला जा रहा है। आतंक के वित्त पोषण के लिए ड्रग के कारोबार को हवा दी जा रही है। हाल ही में पुलिस ने ड्रग का धंधा करने वाले गिरोह के ठिकाने से 2 करोड़ रुपए जब्त किए हैं।

राजौरी के थानामंडी और सुंदरबनी इलाकों में एक के बाद एक मुठभेड़ों ने सुरक्षा अफसरों को अलर्ट कर दिया है। सैन्य विशेषज्ञों का आकलन है कि इस क्षेत्र में पाक स्थित आतंकी संगठनों ने प्रशिक्षण शिविरों को सक्रिय कर दिया है। कश्मीर घाटी में आतंकी संगठनों के शीर्ष कमांडरों के सफाए से हुए भारी नुकसान की भरपाई के लिए जम्मू में हमले की साजिश रची जा रही है।

इन दिनों डोडा, किश्तवाड़ और रामबन के पहाड़ी जिलों के दूरदराज इलाकों में हाथियारों और गोलाबारूद की खेप बरामद हो रही है, जबकि सीमावर्ती जिले सांबा और कठुआ ‘ड्रोन’ के एक नए खतरे से जूझ रहे हैं। यहां आईईडी सहित हथियारों की खेप गिराई जा रही है।

इस साल 27 जून को जम्मू के वायुसेना स्टेशन पर ड्रोन हमले के बाद से क्षेत्र में ड्रोन स्पॉटिंग की एक दर्जन घटनाएं हो चुकी हैं। इससे स्पष्ट है कि जम्मू क्षेत्र में आतंकी संगठनों ने ओवर ग्राउंड वर्कर्स की मदद से इलाके में पैठ मजबूत की है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के वरिष्ठ पुलिस अफसर व खुफिया एजेंसियां इन घटनाओं के पीछे एक निश्चित पैटर्न का पता लगाने के लिए बारीकी से निगरानी कर रही हैं।

जम्मू-कश्मीर पुलिस के अनुसार, जुलाई 2021 से अब तक जम्मू क्षेत्र में आतंकियों से पांच मुठभेड़ हुई हैं। इसमें सात आतंकियों का सफाया किया गया है। पुलिस ने 10 अगस्त को पुंछ में 25.81 लाख रु. की हवाला राशि बरामद की थी, जो सबसे अधिक बरामदगी है। 13 अगस्त को सीमावर्ती जिले में पहली बार चार स्टिकी बम भी मिले।

जम्मू में मुठभेड़ में तेजी से इजाफा हो रहा है…

  • 9 जुलाई को राजौरी के सुंदरबनी इलाके में 3 आतंकी मारे गए। दो जवान शहीद हुए।
  • 6 अगस्त को थाना मंडी में दो आतंकी मारे गए। 19 अगस्त को इसी इलाके में एक और आतंकी ढेर। एक जवान भी शहीद।
  • 13 अगस्त को राजौरी में भाजपा नेता के घर हमले में तीन साल के बच्चे की मौत।
  • पुंछ में सीमापार से घुसपैठ की कोशिश हो रही है। बीते कुछ महीनों में 5 आतंकी मारे गए।

खबरें और भी हैं…



Source