दिल की बीमारी से जूझ रहे फुटबॉलर अनवर अली 3 साल बाद एफसी गोवा टीम में शामिल

0
29
Article Top Ad


नई दिल्‍ली. 2019 में अनवर अली (Anwar Ali) को फुटबॉल (Football) खेलने से मना किया गया था. उन्‍हें एक गंभीर दिल की बीमारी (Heart Disease) के बारे में पता चला था. लेकिन अब लगभग तीन साल बाद यह डिफेंडर खेल में वापस आ गया है. कई स्कैन और जांच से गुजरने के बाद भारत और विदेशों के डॉक्टरों से परामर्श करना, विभिन्न समितियों के सामने पैरवी करना, दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना और हलफनामा देकर पूरी जिम्मेदारी का दावा करने के बाद वह आखिरकार खेल के मैदान में लौट आए. वह एफसी गोवा टीम (FC Goa Team) में शामिल किए गए हैं.

अनवर अली के मेंटॉर रंजीत बजाज ने कहा, ‘यह सब एक लड़ाई का नरक रहा है. यह अपने आप में एक नेटफ्लिक्स सीरीज हो सकती है.’ बजाज अनवर अली की प्रशंसा ‘वन्स-इन-ए-जेनरेशन प्लेयर’ के रूप में करते हैं. 21 वर्षीय इस खिलाड़ी को रविवार को मैच-टाइम नहीं मिला. लेकिन एफसी गोवा () द्वारा औपचारिक रूप से हस्ताक्षर किए जाने के एक दिन बाद उन्होंने रविवार को वास्को में केरला ब्लास्टर्स के खिलाफ इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) मैच के लिए टीम की बेंच में जगह बनाई, जो 2-2 से ड्रॉ पर समाप्त हुआ.

हृदय से जुड़ी एक विशेष प्रकार की बीमारी के कारण प्रतिस्पर्धी फुटबॉल खेलने से रोक दिए गए सेंटर बैक अनवर अली ने अब एफसी गोवा के साथ अनुबंध किया है. अनवर को हृदय से जुड़ी एक दुर्लभ बीमारी ‘एपिकल हाइपरकार्डियोमायोपैथी’ से पीड़ित पाया गया था, जिसके बाद अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने उन्हें प्रतिस्पर्धी फुटबॉल खेलने से रोक दिया था.

इस कारण अनवर एक साल से अधिक समय तक कोई मैच नहीं खेल पाए थे. इसके बाद उन्होंने अपना पहला मैच टेकट्रो स्वदेश अकादमी के लिये खेला और फिर मिनर्वा अकादमी के जरिये दिल्ली एफसी से जुड़ गए. अनवर ने डूरंड कप और आईलीग क्वालीफायर्स में दिल्ली एफसी की तरफ से शानदार प्रदर्शन किया. वह आईएसएल के इस सत्र में शुरू से ही एफसी गोवा के साथ अभ्यास कर रहे थे.

अनवर ने कहा, ‘मै खुश हूं कि मेरी जिंदगी का सबसे बुरा दौर अब खत्म हो गया है. यह मेरे जीवन का एक नया अध्याय है और मैं फुटबॉल खेलने के अवसर का स्वागत करना चाहता हूं. मुझे शीर्ष स्तर पर खेलने के लिये लंबा इंतजार करना पड़ा.’ उन्होंने कहा, ‘मैं एफसी गोवा का मुझ पर भरोसा दिखाने के लिए आभार व्यक्त करता हूं. मैं सत्र के शुरू से ही टीम के साथ हूं और इससे मुझे उसके खेलने को तरीके को समझने में मदद मिली.’

Tags: Football



Source