पहली बार विंडीज में हो रहे Under-19 विश्व कप चमकेंगे भविष्य के सितारे

0
10
Article Top Ad


Image Source : TWITTER
under 19 world cup these teams are favorites to win the tournament

Highlights

  • भारत को ग्रुप बी में रखा गया है जबकि ऑस्ट्रेलिया ग्रुप डी में है
  • वीजा संबंधी मसलों के कारण अफगानिस्तान टीम देर से यहां पहुंची है और अभ्यास मैच खेलने से वंचित रह गई
  • न्यूजीलैंड ने अपने पृथकवास नियमों के कारण टूर्नामेंट से नाम वापिस ले लिया जिसकी जगह स्कॉटलैंड खेल रही है

वेस्टइंडीज में शुक्रवार से शुरू हो रहे अंडर-19 विश्व कप में भविष्य के सितारों को अपनी चमक बिखेरने का मौका मिलेगा जबकि चार बार की चैम्पियन भारतीय क्रिकेट टीम एक बार फिर खिताब की प्रबल दावेदार होगी। कोरोना महामारी के बीच पहली बार कैरेबियाई सरजमी पर हो रहे टूर्नामेंट में 16 टीमों को चार समूहों में बांटा गया है। भारत को ग्रुप बी में रखा गया है जबकि ऑस्ट्रेलिया ग्रुप डी में है।

दो साल पहले भारत को हराकर पहली बार अंडर-19 खिताब जीतने वाली बांग्लादेश ग्रुप ए में है। दो बार की विजेता पाकिस्तान और अफगानिस्तान ग्रुप सी में है। वीजा संबंधी मसलों के कारण अफगानिस्तान टीम देर से यहां पहुंची है और अभ्यास मैच खेलने से वंचित रह गई। हर ग्रुप से शीर्ष दो टीमें क्वार्टर फाइनल में पहुंचेंगी। टूर्नामेंट के बायो बबल का उल्लंघन अभी तक नहीं हुआ है लेकिन पाकिस्तान और जिम्बाब्वे की टीमों में कोरोना संक्रमण के मामले आये हैं।

न्यूजीलैंड ने अपने पृथकवास नियमों के कारण टूर्नामेंट से नाम वापिस ले लिया जिसकी जगह स्कॉटलैंड खेल रही है। मेजबान वेस्टइंडीज का सामना पहले दिन ऑस्ट्रेलिया से होगा जबकि स्कॉटलैंड की टक्कर श्रीलंका से होगी। भारत को पहला मैच शनिवार को दक्षिण अफ्रीका से गयाना में खेलना है।

खिताब के दावेदार:

भारत: रिकॉर्ड चार बार की चैम्पियन भारतीय टीम सबसे प्रबल दावेदार है हालांकि उसके पास पिछली टीमों जैसा आत्मविश्वास नहीं दिख रहा। भारतीय टीम एशिया कप जीतकर दुबई से सीधे यहां आई है। पांच दिन के कड़े पृथकवास के बाद यश धुल की अगुवाई वाली टीम ने अभ्यास मैच में ऑस्ट्रेलिया को नौ विकेट से हराया। सलामी बल्लेबाज हरनूर सिंह, दिल्ली के बल्लेबाज और कप्तान यश, शेख रशीद और तेज गेंदबाज राजवर्धन हंगरगेकर से काफी उम्मीदें होंगी। भारत के पास प्रतिभाओं की कमी नहीं है और यही वजह है कि एक खिलाड़ी को एक ही बार अंउर 19 विश्व कप खेलने का मौका मिलता है।

ऑस्ट्रेलिया: तीन बार की चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया दूसरी प्रबल दावेदार है। वह आठ बार कम से कम सेमीफाइनल तक जरूर पहुंची है। आखिरी बार 2010 में उसने खिताब जीता था जब टीम में मिशेल मार्श, एडम जाम्पा और जोश हेजलवुड थे। इस बार हरफनमौला कूपर कोनोली टीम के कप्तान है और 2020 में उनहोंने वेस्टइंडीज के खिलाफ एक प्लेआफ मैच में 53 गेंद में 64 रन बनाये थे।

बांग्लादेश: बांग्लादेश ने 2020 में खिताब जीतकर इतिहास रचा और वे उसे दोहराना चाहेंगे। कप्तान रकीबुल हसन दक्षिण अफ्रीका में खिताब जीतने वाली उस टीम के सदस्य थे। पिछले महीने एशिया कप सेमीफाइनल में भारत ने बांग्लादेश को हराया था।

पाकिस्तान: पांच बार फाइनल में पहुंची पाकिस्तान ने 2004 और 2006 में खिताब जीते थे जब सरफराज अहमद, वहाब रियाज और इमाद वसीम टीम का हिस्सा थे। शाहीन शाह अफरीदी 2018 अंडर 19 विश्व कप से ही चमके थे। कासिम अकरम की कप्तानी वाली टीम के कोच पूर्व बल्लेबाज एजाज अहमद हैं।

ICC U19 World Cup ने भारत को दिए ये 6 सबसे बड़े सितारे

इंग्लैंड: इंग्लैंड ने 24 साल पहले एकमात्र अंडर 19 खिताब जीता था लेकिन 2014 में तीसरे स्थान पर रही। पिछली बार पहले दौर से भी आगे नहीं बढ सकी थी। इस साल कप्तान टॉम प्रेस्ट को बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। टीम के कोच रिचर्ड डॉसन है और लगभग पूरी नयी टीम उतारी गई है।





Source