स्वास्थ्य मंत्री के पद से हटाए गए डॉ. हर्षवर्धन, दूसरी बार गिरी गाज, जानें- कोरोना है वजह या कुछ और

0
58
Article Top Ad


कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कमजोर मैनेजमेंट के आरोपों का सामना करने वाले डॉ. हर्षवर्धन पर गाज गिरी है। उनसे पीएम नरेंद्र मोदी ने हेल्थ मिनिस्टर के पद से इस्तीफा ले लिया गया है। उन्हें किसी और विभाग की जिम्मेदारी दी जा सकती है। हालांकि अब तक यह साफ नहीं है कि उन्हें क्या पोर्टफोलियो मिलने वाला है। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने देश में जिस वक्त जोर पकड़ा था, उस दौरान रेमडेसिविर इंजेक्शन, ऑक्सीजन की कमी से लेकर अन्य तमाम चीजों की किल्लत देखने को मिली थी। ऐसे में डॉ. हर्षवर्धन की सक्रियता पर सवाल उठे थे। माना जा रहा था कि खुद पीएम नरेंद्र मोदी भी उनकी सक्रियता को लेकर बहुत ज्यादा खुश नहीं थे।

आपको बता दें कि 2014 में बनी पीएम नरेंद्र मोदी की पहली सरकार में भी डॉ. हर्षवर्धन हेल्थ मिनिस्टर थे, लेकिन बीच में ही उन्हें हटाकर उनकी जगह जेपी नड्डा को यह जिम्मा दिया गया था। यह दूसरा मौका है, जब उन्हें पद से हेल्थ मिनिस्टर के पद से हटाया गया है। वह साइंस एंड टेक्नोलॉजी मिनिस्टर भी थे, लेकिन इस पद पर वह बने रहेंगे। सूत्रों के मुताबिक कुल 14 मंत्रियों को कैबिनेट से हटाया जा रहा है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हर्षवर्धन कैबिनेट में बने रहेंगे या फिर वह बाहर ही रहेंगे। इसके अलावा उनके विकल्प के तौर पर किस नेता को चुना गया है, यह भी स्पष्ट नहीं है। 

हर्षवर्धन के अलावा पीएम नरेंद्र मोदी ने जिन बड़े चेहरों से इस्तीफे लिए हैं, उनमें श्रम मंत्री संतोष गंगवार भी शामिल हैं। इसके अलावा कर्नाटक के पूर्व सीएम सदानंद गौड़ा का भी इस्तीफा लिया गया है। यही नहीं रतन लाल कटारिया, देबोश्री चौधरी समेत कुल 9 नेताओं से अब तक मंत्री पद से इस्तीफा ले लिया गया है। अभी यह लिस्ट कुछ और लंबी हो सकती है। बता दें कि पीएम मोदी के कैबिनेट विस्तार में बुधवार शाम को बड़ी संख्या में मंत्री शपथ ले सकते हैं।  



Source