BJP का चन्नी सरकार से सवाल- किसने लीक की पीएम मोदी के रूट की जानकारी, DGP ने क्यों दी क्लीयरेंस?

0
41
Article Top Ad


भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को पंजाब में कांग्रेस सरकार पर उस मार्ग को सुरक्षित करने में विफल रहने के लिए फटकार लगाई, जिस पर राज्य में एक रैली को संबोधित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला गुजरना था। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि इस सवाल का जवाब देने की जरूरत है कि सुरक्षा काफिले को किसने झूठी मंजूरी दी और प्रधानमंत्री को जिस रास्ते पर जाना था उसके बारे में जानकारी किसने लीक की।

उन्होंने कहा, ‘भाजपा कार्यकर्ताओं और देश को पंजाब में कांग्रेस सरकार से यह सवाल पूछने की जरूरत है कि डीजीपी ने प्रधानमंत्री के काफिले को रूट क्लीयरेंस क्यों दी। पंजाब सरकार में वह कौन है जिसने फ्लाईओवर के ऊपर मौजूद व्यक्तियों को प्रधानमंत्री के मार्ग के बारे में जानकारी दी? सार्वजनिक रूप से उपलब्ध वीडियो साक्ष्य ऐसे सवालों के जवाब मांग रहे हैं’।’

सुरक्षा उल्लंघन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे देश के इतिहास में पहले कभी भी कोई राज्य पीएम की सुरक्षा को सुरक्षित करने में विफल नहीं हुआ है।

मंत्री ने सवाल किया, “जब प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात अधिकारियों ने फ्लाईओवर के ऊपर प्रधानमंत्री के काफिले की स्थिति के बारे में पंजाब पुलिस से संपर्क किया कि किसी ने प्रतिक्रिया नहीं दी। वह 20 मिनट काफी जोखिम भरा था। प्रधानमंत्री की सुरक्षा में बड़ा उल्लंघन था।”

प्रशासनिक चूक पर अपने हमले को तेज करते हुए उन्होंने कहा, “मुझे यकीन है कि देश इस घटना पर हमारे आक्रोश को साझा करता है। हम जानते हैं कि कांग्रेस पार्टी पीएम मोदी से नफरत करती है लेकिन आज उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की। पंजाब राज्य में कानून-व्यवस्था इस तरह चरमरा गई है कि डीजीपी का दावा है कि वह प्रधानमंत्री कार्यालय और प्रधानमंत्री को सुरक्षा सहायता प्रदान करने में असमर्थ है।”

स्मृति ईरामी मने कहा कि हम जैसे लोगों को इस बात से गुस्सा आता है कि जब प्रधानमंत्री ने सुरक्षा भंग की तो कांग्रेस नेता खुशी से झूम उठे और उनसे पूछा कि उनका जोश कैसा है। वह कांग्रेस नेता बीवी श्रीनिवास के एक ट्वीट का जिक्र कर रही थीं, जिन्होंने ट्वीट किया था, “मोदी जी, हाउ इज द जोश?” मंत्री ने यह भी कहा कि एमएचए ने इस मुद्दे पर एक रिपोर्ट मांगी है।



Source