Cyclone Yaas: ओडिशा तट पर आज दस्तक देगा तूफान यास, बंगाल में हो रही बारिश, जानें कहां-कैसी है तैयारी

0
34
Article Top Ad


चक्रवाती तूफान ‘यास’ ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों से टकराने से पहले ही दोनों राज्यों में भारी बारिश होने लगी है। बंगाल के मेदिनीपुर, बांकुरा, झारग्राम, दक्षिण 24 परगना, कोलकाता और नादिया में तो ओडिशा के भुवनेश्वर, चांदीपुर और बंगाल के दिघा में लगातार बारिश हो रही है। आज अगले कुछ घंटों में चक्रवाती तूफान यास ओडिशा के तट से टकराएगा और फिर यह इस दौरान काफी तबाही मचा सकता है। यानी यास ओडिशा से एंट्री करेगा, जिसका असर बंगाल से लेकर बिहार-झारखंड तक देखने को मिलेगा। यही वजह है कि यास तूफान को लेकर बिहार और झारखंड में भी अलर्ट जारी किया गया है। 

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार ‘यास’ उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ते हुए अगले कुछ घंटों के दौरान एक बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि चक्रवाती तूफान उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ेगा और फिर तेज गति से आज यानी बुधवार की सुबह उत्तरी ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों के पास उत्तर पश्चिमी बंगाल की खाड़ी तक पहुंचेगा। इसी दिन दोपहर के आसपास इसके बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में पारादीप और सागर द्वीपों के बीच उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने का अनुमान है। 

माना जा रहा है कि इस दौरान 165 किमी प्रति घंटे से अधिक की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं और 2 मीटर से 4.5 मीटर तक लहरें उठ सकती हैं। मौसम विभाग का कहना है कि समुद्र तट से टकराने से पहले ‘यास’ काफी ज्यादा खतरनाक हो सकता है। समुद्र तट से गुजरने के बाद बुधवार दोपहर तक इसका असर और बढ़ने की आशंका है।

कोलकाता एयरपोर्ट पर उड़ानें सस्पेंड
बंगाल में चक्रवाती तूफान ‘यास’ के आने की वजह से कोलकाता एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स को सस्पेंड किए जाने का ऐलान किया गया है। कोलकाता एयरपोर्ट के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट ने ट्वीट किया, ”भारतीय मौसम विभाग द्वारा चक्रवात यास को लेकर जारी की गई चेतावनी को देखते हुए कोलकाता एयरपोर्ट पर 26 मई को सुबह 8:30 से शाम 7:45 तक सभी फ्लाइट सेवाएं बंद रहेंगी।” इसके अलावा, इंडिगो एयरलाइंस ने भी ट्वीट कर चक्रवात तूफान की वजह से उनकी फ्लाइट सेवाओं के प्रभावित रहने की जानकारी दी।

ट्रेनों के पहिए बांधे गए
बंगाल में तूफान के आने से पहले सभी पुख्ता तैयारियां कर ली गई हैं। ऐसे में किसी भी अप्रत्याशित घटना से बचने के लिए रेलवे ने कुछ ट्रेनों के पहियों को रेलवे ट्रैक से मोटी जंजीरों की मदद से बांध दिया है। कोलकाता के सियालदह रेलवे स्टेशन पर रेलकर्मियों ने ट्रेन को पटरियों से बांध दिया। इसके अलावा, हावड़ा के शालीमार रेलवे स्टेशन पर भी रेलवे स्टाफ ने ट्रेन के पहियों को अच्छे तरीके से पटरियों से जकड़ दिया।

कहां-कैसी है तैयारी
चक्रवात तूफान यास ओडिशा और बंगाल में तटीय इलाकों को प्रभावित करेगा। इस वजह से दोनों राज्यों के कई जिलों में तेज गति से हवाएं चलेंगी और समुद्र में हाई टाइड आएगा। दोनों राज्यों में तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा चुका है। बंगाल वन विभाग ने राहत एवं बचाव कार्यों के लिए तीन जिलों में 16 दलों का गठन किया है। एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कोलकाता , उत्तर और दक्षिण 24 परगना में इन दलों का गठन किया गया है। 

ओडिशा में तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया :
ओडिशा के निचले तथा संवेदनशील इलाकों से तीन लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) प्रदीप कुमार जेना ने बताया कि ओडिशा के तटों से लगे संवेदनशील इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। उन्होंने कहा कि 25,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। ओडिशा सरकार ने चक्रवाती तूफान के मद्देनजर राहत एवं बचाव अभियान के लिए संवेदनशील क्षेत्रों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 52, ओआरडीएफ की 60 और अग्निशमन की 206 टीम को तैनात कर दिया है। इसके अलावा 404 बचाव दलों को भी तैनात किया गया है। तूफान को लेकर ओडिशा के बालासोर, भद्रक, केंद्रपारा, जगतसिंघपुर, मयूरभंज और केओनझार जिले हाई रिस्क जोन घोषित किए गए हैं।

बंगाल में 10 लाख लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया : 
‘यास’ तूफान के असर से पश्चिम बंगाल के कोलकाता, हावड़ा, हुगली में बुधवार को 70-80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। उत्तरी और दक्षिणी 24 परगना के तटीय इलाकों में 90 से 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने के आसार हैं। ये रफ्तार 120 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि राज्य सरकार 10 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में जुटी है। उनका कहना है कि ‘यास’ का असर ‘अम्फान’ तूफान से भी काफी ज्यादा होगा।

बिहार में दिख सकता असर : 
तूफान को लेकर बिहार और झारखंड में भी अलर्ट किया गया है। मौसम विभाग पटना ने कहा था कि अगले 2-3 दिनों में राज्य के कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। विभाग ने 27 और 28 मई के लिए ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया है। उधर, झारखंड में रेड अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि, बिहार और झारखंड में बूंदाबांदी देखने को मिल रही है।

एनडीआरएफ ने सबसे अधिक टीमें तैनात की
राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने चक्रवात ‘यास’ के लिए अपनी तैयारियों के तहत ओडिशा और पश्चिम बंगाल में अब तक की सबसे अधिक टीमों को तैनात किया है। संघीय आपदा बल ने पांच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश अंडमान-निकोबार द्वीपसमूह में तैनाती के लिए कुल 112 टीमों को तैयार किया है। बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवात से इन इलाकों के प्रभावित होने की आशंका है। ओडिशा में सबसे अधिक 52 और पश्चिम बंगाल में 45 टीमों को तैनात किया गया है। इनके अलावा, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, झारखंड और अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह में बाकी टीमों को तैनात किया गया है।

इधर, मौसम विभाग की मानें तो चक्रवात ‘यास’ आज दोपहर तक उत्तर ओडिशा तट के निकट उत्तरी धामरा और बालासोर के दक्षिण के पास पहुंचेगा। इस दौरान ‘यास’ बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में होगा और हवा की स्पीड 130-140 किमी प्रति घंटे रहने की संभावना है।

चक्रवाती तूफान यास के असर की वजह से पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर, बांकुरा, झारग्राम, दक्षिण 24 परगना, कोलकाता और नादिया में कुछ जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश, कुछ जगहों पर भारी बारिश और कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश हो रही है। इतना ही नहीं, चक्रवाती तूफान यास का असर झारखंड पर भी दिख रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक, आज और कल झारखंड के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश, कुछ स्थानों पर भारी बारिश और कुछ जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश होगी।

बंगाल और ओडिशा में तेज बारिश
यास के लैंडफॉल से पहले पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में तेज बारिश शुरू हो गई है। ओडिशा के पुरी, कटक, खुर्दा और जाजपुर जिले तथा पश्चिम बंगाल के झाड़ग्राम, पश्चिम मेदिनीपुर और उत्तरी 24 परगना जिलों में 80-90 किलोमीटर रफ्तार की हवाएं 110 किलोमीटर तक चल सकती हैं। मौसम विभाग ने अगली सूचना तक मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है। दक्षिण पूर्व रेलवे ने भी बुधवार तक कई पैसेंजर स्पेशल ट्रेनों को रद्द करने की घोषणा की है।

बिहार में नौ एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन रद्द
बंगाल की खाड़ी मे उठे चक्रवाती तूफान ‘यास’ के कारण पूर्व मध्य रेलवे के समस्तीपुर रेल मंडल प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर नौ प्रमुख एक्सप्रेस ट्रेनों के परिचालन को रद्द करने का निर्णय लिया है। वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक सह मीडिया प्रभारी सरस्वती चन्द्र ने बताया कि चक्रवाती तूफान के कारण 03021 हावड़ा-एक्सप्रेस ट्रेन, 03019 हावड़ा-काठगोदाम एक्सप्रेस ट्रेन, 03043 हावड़ा-रक्सौल एक्सप्रेस ट्रेन 26 मई को हावड़ा से रद्द रहेगी। इसी तिथि को 03185 सियालदह-जयनगर विशेष गाड़ी सियालदह से रद्द रहेगी। उन्होंने बताया इसके अलावा  मुजफ्फरपुर से चलने वाली 03158 मुजफ्फरपुर- कोलकाता विशेष ट्रेन, 05234 दरभंगा- कोलकाता विशेष गाड़ी दरभंगा से, 03022 रक्सौल- हावड़ा विशेष ट्रेन रक्सौल से और 03186 जयनगर- सियालदह विशेष गाड़ी का परिचालन जयनगर से दिनांक 26 मई को रद्द रहेगा। इसी प्रकार कोलकाता से चलने वाली 05233 कोलकता-दरभंगा स्पेशल ट्रेन आगामी 27 मई को रद्द रहेगी।





Source