क्वाड देशों की बैठक में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में साथ मिलकर काम करना होगा

0
11
Article Top Ad


अमेरिका की तीन दिवसीय दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को क्वाड देशों की बैठक में शामिल हुए। पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन के दौरान इस बात पर जोर दिया कि QUAD देशों को हिंद-प्रशांत क्षेत्र में साथ मिलकर काम करना होगा। उनकी नजरों में QUAD का उदेश्य ही ये है कि सभी साथ मिलकर दुनिया में शांति स्थापित करें, इसे समृद्धि की ओर ले जाएं। अपने संबोधन के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने QUAD का उदेश्य समझाते हुए कहा कि सबसे पहले साल 2004 के बाद QUAD देश एकजुट हुए थे। तब सुनामी से निपटने के लिए हर तरह की मदद की गई थी। अब जब पूरी दुनिया कोरोना से लड़ रही है तब फिर दुनिया की भलाई के लिए QUAD सक्रिय हुआ है।

इस बैठक में पीएम मोदी ने क्वॉड की पहली इन-पर्सन बैठक बुलाने के लिए बाइडेन का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि हमारा वैक्सीन इनिशिएटिव इंडो-पैसिफिक देशों की बड़ी मदद करेगा। पीएम ने कहा कि ‘मुझे विश्वास है कि क्वॉड ग्रुप विश्व में शांति और समृद्धि सुनिश्चित करने में अहम भूमिका अदा करेगा। चारों देश भारत-प्रशांत क्षेत्र की मदद के लिए 2004 की सुनामी के बाद पहली बार मिले हैं। आज दुनिया कोरोना महामारी से लड़ रही है। इसलिए चारों देश हम एक बार फिर मानवता के कल्याण के लिए क्वाड के रूप में साथ आए हैं।’

क्वाड समूह की बैठक के दौरान जापान  के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा ने कहा कि, ‘मुझे उम्मीद है कि यह समिट बेहतर रहा। जापानी पीएम ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन का धन्यवाद दिया और कहा कि जापानी फूड प्रोडक्ट्स पर जो प्रतिबंध लगा हुआ था उसे आपने खत्म कर दिया। मैंने इस संबंध में अप्रैल के महीने में आपसे गुजारिश की थी। यह एक बड़ा कदम है। आपका शुक्रिया।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने क्वाड समूह की बैठक मे कहा कि आज, हम अपने प्रत्येक क्वाड देशों के छात्रों के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में अग्रणी स्टेम कार्यक्रमों में उन्नत डिग्री हासिल करने के लिए एक नई क्वाड फेलोशिप भी शुरू कर रहे हैं, जो कल के नेताओं, नवप्रवर्तकों और अग्रदूतों में निवेश का प्रतिनिधित्व करते हैं। हमारे युग की प्रमुख चुनौतियों का सामना करने के लिए क्वाड देशों के पास भविष्य के लिए समान दृष्टिकोण है।

क्वाड की व्यक्तिगत बैठक के लिए व्हाइट हाउस में पीएम मॉरिसन, पीएम मोदी और पीएम सुगा का स्वागत करता हूं। इस समूह में लोकतांत्रिक साझेदार हैं जो विश्व दृष्टिकोण साझा करते हैं और भविष्य के लिए समान दृष्टिकोण रखते हैं, जो हमारी उम्र की प्रमुख चुनौतियों का सामना करने के लिए एक साथ आते हैं। बता दें कि पिछली बार मार्च महीने में वर्चुअल तरीके से आयोजित की गई बैठक के बाद अब यह आमने-सामने की बैठक हुई। भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के शीर्ष नेता बैठक में शामिल हुए। 

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन से व्हाइट हाउस में अलग से मुलाकात की थी। यह मुलाकात काफी अहम रही थी। इस मुलाकात में दोनों देशों ने द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने की दिशा में कदम उठाने की बात कही थी। इस मुलाकात के दौरान कोरोना, जलवायु परिवर्तन समेत अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई थी। 





Source