लैपटॉप का जवाब टैबलेट से, देखिए क्या है योगी सरकार की टैबलेट योजना?

0
45
Article Top Ad


UP Laptop and Tablet Politics: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अगले साल विधानसभा के चुनाव (UP Assembly Elections) होने हैं. ऐसे में अब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने (Akhilesh Yadav) लैपटॉप (Laptop) योजना की बात छेड़ दी है. जिसके बाद अब अब यूपी की चुनावी जंग के बीच लैपटॉप और टैबलेट (Tablet) की बात आ गई है. इस बीच आपको बता दें कि फरवरी 2021 में मुख्‍यमंत्री अभ्युदय योजना की शुरुआत की गई थी. योजना के तहत लाख छात्र-छात्राओं को टैबलेट देने का लक्ष्य रखा गया था. इस बीच यूपी सरकार ने परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स के लिए यात्रा भत्ते का भी एलान किया है.

10 लाख छात्र-छात्राओं को टैबलेट देने का लक्ष्य
अभ्युदय योजना योजना के तहत 10 लाख छात्र-छात्राओं को टैबलेट देने का लक्ष्य रखा गया था. प्रतियोगी परीक्षा (Competitive Exam) की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए खास इस स्कीम की शुरुआत की गई थी. निशुल्क कोचिंग में दाखिला पाने वालों को फ्री टैबलेट देने की योजना है. इसके अलावा आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए इस योजना को शुरू किया गया था.  

लैपटॉप का जवाब है टैबलेट
बता दें कि, 120 राजकीय महाविद्यालयों में 1080 टैबलेट दिए जाएंगे. महाविद्यालयों में टैबलेट के लिए 1 करोड़ 68 लाख रुपये का बजट रखा गया है. यानी लैपटॉप का जवाब अब टैबलेट से देने की कोशिश की जा रही है. 

ये महा झूठी सरकार है
इसी मामले को लेकर सपा नेता जूही सिंह ने कहा है कि ये महा झूठी सरकार है. बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में लैपटॉप के साथ वन जीबी डेटा देने की बात कही थी. 5 महीने रह गए हैं, अभी तक टेंडर प्रक्रिया भी शुरू नहीं की गई है. मुख्यमंत्री ने तो शायद घोषणा पत्र पढ़ा ही नहीं है. जूही सिंह ने कहा कि योगी सरकार में लगातार अपराध बढ़ा है. सरकाप केवल नाम बदलने का काम कर रही है. अपनी भी थोड़ी जांच करा लें. चुनाव सामने है, जनता सब जानती है.

यूपी का चहुमुखी विकास हो रहा है
सपा नेता जूही सिंह की बात का जवाब देते हुए भाजपा सांसह हरनाथ सिंह यादव ने कहा कि सीएम योगी के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश का चहुमुखी विकास हो रहा है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का स्पष्ट मत है कि शिक्षा समग्र विकास की आधारशिला है. उन्होंने कहा कि सपा सरकार में राज्य में पठन-पाठन का माहौल पूरी तरह से समाप्त हो गया था. परिक्षा में नकल जोरों पर होती थी. नकल ने उद्योग का स्वरूप ले लिया था. आज पूरे प्रदेश में पठन-पाठन का माहौल है. 

ये भी पढ़ें: 

UP Political News: अखिलेश और प्रियंका गांधी पर केशव प्रसाद मौर्य ने कसा तंज, क्लिक कर पढ़ें क्या-क्या कहा 

Farmers Issues: राकेश टिकैत ने सरकार पर लगाया किसानों की अनदेखी का आरोप, टाल गए ये सवाल



Source