अमेरिकी हेल्थ एक्सपर्ट का दावा- अगले महीने तक भारत में पीक पर होंगे ओमिक्रोन मामले

0
26
Article Top Ad


Corona Omicron Variant: भारत में कोविड-19 के मामले तेज रफ्तार से बढ़ रहे हैं इस बीच अमेरिका के एक स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने दावा किया है कि अगले महीने तक भारत में ओमिक्रोन संक्रमण के मामले पीक पर यानी चरम पर होंगे. अमेरिकी विशेषज्ञ ने अनुमान लगाते हुए कहा कि भारत में रोजाना कोरोना संक्रमण के 5 लाख तक मामले सामने आ सकते हैं.

इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन (IHME) के डायरेक्ट और वाशिंगटन यूनिवर्सिटी (University of Washington) में हेल्थ मेट्रिक्स साइंसेज के अध्यक्ष डॉ क्रिस्टोफर मरे (Dr Christopher Murray) ने कहा कि दुनिया भर के कई देश ओमिक्रोन की लहर से काफी प्रभावित हैं. भारत में डेल्टा वेरिएंट में तेजी के वक्त जितने मामले आए थे उससे कही अधिक मामले इस बार ओमिक्रोन वेरिएंट (Omicron Variant) के संक्रमण से आने वाले हैं. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि देश में इस बार ओमिक्रोन वेरिएंट की गंभीरता डेल्टा वेरिएंट की तुलना में कम होगी.

”अगले महीने भारत में ओमिक्रोन मामले पीक पर होंगे”

वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी (University of Washington) में हेल्थ एक्सपर्ट डॉ क्रिस्टोफर मरे (Dr Christopher Murray) ने कहा अगले महीने तक भारत में ओमिक्रोन संक्रमण के करीब 5 लाख मामले रोजाना सामने आ सकते हैं. वर्तमान में हमारे पास मॉडल है जिसे हम बाद में जारी करेंगे. जैसा कि भारत में कई विशेषज्ञ मानते हैं कि देश में हाइब्रिड इम्युनिटी है, जिसके कारण ओमिक्रोन वेरिएंट कम प्रभावी होगा. डॉ क्रिस्टोफर मरे ने कहा कि टीकाकरण की खुराक गंभीर बीमारी के लिए अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु से काफी सुरक्षा प्रदान करती है. यही वजह है कि हमें लगता है कि भारत में ओमिक्रोन के कई मामले सामने तो आएंगे लेकिन डेल्टा लहर में की तुलना में बहुत कम अस्पताल में भर्ती और मौतें होगी.

ये भी पढ़ें:

Curfew in Delhi: दिल्ली में आज से वीकेंड कर्फ्यू शुरू, बिना वजह घर से बाहर निकलने पर रोक, जरूरी सेवाएं जारी रहेंगी

ओमिक्रोन से डेल्टा की तुलना में खतरा कम

अमेरिकी हेल्थ एक्सपर्ट डॉ क्रिस्टोफर मरे ने आगे कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि 85.2 फीसदी संक्रमण के ममलों में कोई लक्षण नहीं होगा. म्यूटेशन के बारे में बात यह है कि वे Random हैं इसलिए जितना अधिक ट्रांसमिशन (Transmission) होगा, म्यूटेशन (Mutations) होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी. बता दें कि भारत में रोजाना एक लाख से अधिक मामले सामने आने लगे हैं. देश में अब तक इस जानलेवा वायरस से कुल 4,83,178 लोगों ने जान गंवाई है. इस बीच देश में वैक्सीनेशन भी तेजी से जारी है.

ये भी पढ़ें:

Weather Updates: दिल्ली-NCR में बारिश से बिगड़ा मौसम का मिजाज, पहाड़ों पर बर्फबारी से उत्तर भारत में चली शीतलहर



Source