कोरोना महामारी के बीच लंदन के अस्पतालों में होगी सैनिकों की तैनाती, ये है वजह

0
34
Article Top Ad


Britain COVID-19: ब्रिटेन में कोविड-19 के ओमिक्रोन वेरिएंट (Omicron Variant) के मामले तेज रफ्तार से बढ़ रहे हैं. ओमिक्रोन संक्रमण के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी की वजह से अस्पतालों पर काफी बोझ है. वहीं देश की नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) अस्पतालों में कर्मचारियों की भारी कमी से जूझ रही है. इस बीच कर्मचारियों की गंभीर कमी को दूर करने के लिए लंदन के अस्पतालों में सैनिकों की तैनाती की जाएगी. रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) ने शुक्रवार को कहा कि ब्रिटेन ओमिक्रोन के प्रकोप के कारण कर्मचारियों की कमी को दूर करने के लिए लंदन के अस्पतालों में सैनिकों को तैनात करेगा.
 
लंदन के अस्पतालों में सैनिकों की तैनाती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक करीब 200 सशस्त्र बल के जवान लंदन में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के रूप में शामिल होंगे. अस्पतालों में सैकड़ों कर्मचारी कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं जिसकी वजह से अस्पतालों में बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की कमी है. रक्षा सचिव बेन वालेस (Defence Secretary Ben Wallace) ने कहा कि हमारे सशस्त्र बलों (Armed Forces) के पुरुष और महिलाएं एक बार फिर नेशनल हेल्थ सर्विस में समर्पित सहयोगियों को मदद के लिए हाथ आगे बढ़ा रहे हैं. ताकि अधिक अधिक संक्रमित लोगों को इलाज किया जा सके.

ये भी पढ़ें:

Australia COVID-19: ऑस्ट्रेलिया में Omicron मामले बढ़ने से अस्पतालों पर बढ़ा दबाव, न्यू साउथ वेल्स में नाइट क्लब बंद

ब्रिटेन के अस्पतालों में कर्मचारियों की कमी

रक्षा सचिव बेन वालेस (Ben Wallace) ने कहा कि सेना के जवानों ने महामारी के दौरान हमेशा योगदान दिया है. एंबुलेंस चलाने, टीका लगाने से लेकर अस्पताल में रोगियों की देखभाल करने में सैनिकों के बेहतर प्रयास पर हर किसी को गर्व होना चाहिए. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि तैनाती में 40 सैन्य चिकित्सक और 160 सामान्य ड्यूटी कर्मचारी शामिल होंगे. ब्रिटेन ने मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 218,724 दैनिक मामले दर्ज किए जो महामारी शुरू होने के बाद से सबसे अधिक बताया जा रहा है. हालांकि वेंटिलेटर की जरुरत वाले मरीजों की संख्या स्थिर बनी हुई है. हाल ही में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भी कहा था कि कर्मचारियों की भारी कमी की वजह से अस्पतालों की स्थिति ठीक नहीं है.



Source