क्रूर हत्या: ईरान के फिल्म डायरेक्टर ने शादी के लिए न बोला तो मां-बाप ने बेहोश करने के बाद कर दी हत्या, लाश के टुकड़े बैग में भरकर फेंक दिए

0
40
Article Top Ad


  • Hindi News
  • International
  • If The Iranian Film Director Did Not Speak For Marriage, The Parents Murdered After Fainting, Throwing The Pieces Of Corpse In A Bag

तेहरानएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

फिल्म डायरेक्टर बबाक खोर्रामदीन की फाइल फोटो।

ईरान की राजधानी तेहरान से हॉनर किलिंग का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। तेहरान में रहने वाले फिल्म डायरेक्टर बबाक खोर्रामदीन के माता-पिता ने न सिर्फ उनकी नृशंस हत्या की, बल्कि सुबूत नष्ट करने के लिए शव के टुकड़े कर बैग में भरकर फेंक दिए। माता-पिता ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है।

शादी न करने की बात पर माता-पिता से होती थी बहस
तेहरान मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 47 वर्षीय डायरेक्टर बबाक खोर्रामदीन लंदन में रहकर फिल्में व वेब सीरीज बनाते थे। कुछ साल पहले वे तेहरान में बच्चों को पढ़ाने के लिए घर लौट आए थे। यहां माता-पिता से अक्सर उनकी शादी करने की बात पर बहस हुआ करती थी। बीते सोमवा को भी उनकी माता-पिता से जमकर बहस हुई।

डायरेक्टर बबाक खोर्रामदीन की हत्या करने वाले उनके माता-पिता।

डायरेक्टर बबाक खोर्रामदीन की हत्या करने वाले उनके माता-पिता।

एनेस्थिसिया देकर किया बेहोश
तेहरान क्रिमिनल कोर्ट के हेड मोहम्मद शाहरिया के बताए अनुसार यह बात बबाक के पिता ने कुबूल कर लिया है कि उन्होंने बबाक को पहले एनेस्थिसिया दिया और इसके बाद चाकू के कई वार मौत के घाट उतार दिया। हत्या के बाद माता-पिता ने उनके शव के टुकड़े किए और बैग में भरकर फेंक दिए। हालांकि, बबाक के लापता होने पर एक पड़ोसी ने शक के आधार पर पुलिस को सूचना दे दी। घर की तलाशी लेने पर हत्या के कई सुबूत मिले और इस तरह मां-बाप गिरफ्तार कर लिए गए।

पिता ने कोर्ट में कहा – कोई अफसोस नहीं
कोर्ट में अपना जुर्म कुबूल करते हुए आरोपी पिता ने कहा कि इतनी उम्र होने के बाद भी कुंवारा था। लोग हम पर हंसते थे। हमने बबाक को कई बार समझाया, लेकिन उसे हमारी इज्जत की कोई फिक्र नहीं थी। हम तंग आ चुके थे और इसी के चलते हम दोनों ने उससे निजात पाने का विचार कर लिया था। ब्लूमबर्ग के रिपोर्टर गोलनार मोटेवल्ली ने सोशल मीडिया में लिखा है कि पिता ने जज के सामने कहा कि उन्हें बेटे की हत्या का कोई अफसोस नहीं है।

बनाई कई शॉर्ट फिल्में
उल्लेखनीय है कि बबाक खोर्रामदीन ने साल 2009 में फैकल्टी ऑफ फाइन आर्ट्स ऑफ यूनिवर्सिटी ऑफ तेहरान से सिनेमा में मास्टर्स की डिग्री हासिल ली थी। इसके बाद उन्होंने कई शॉर्ट फिल्में भी बनाईं, जिनमें ‘ओथ टू यशर’ और ‘क्रेवाइस’ काफी चर्चित रही थीं।

खबरें और भी हैं…



Source