नए सिरे से लिखा कम्युनिस्ट पार्टी का इतिहास: चीन में राष्ट्रपति जिनपिंग का युग-पुरुष जैसा महिमामंडन, तीसरे कार्यकाल की तैयारी… उनके खिलाफ बयान देना भी अपराध होगा

0
4
Article Top Ad


  • Hindi News
  • International
  • History Of Communist Party Written Anew Glorification Of President Jinping Like A Man Of The Era In China, Preparing For The Third Term… Making Statements Against Him Will Also Be A Crime

5 मिनट पहलेलेखक: क्रिस बकले

  • कॉपी लिंक

चीन में ऐसे होर्डिंग लगे हैं। बताया जा रहा है कि इतिहास का तीन चौथाई हिस्सा जिनपिंग को समर्पित है।

शी जिनपिंग का लगातार तीसरी बार चीन का राष्ट्रपति चुना जाना लगभग तय है। बीजिंग में सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का छठा पूर्ण सत्र सोमवार से शुरू हुआ है, जो 11 नवंबर तक चलेगा। इस दौरान 68 साल के जिनपिंग काे राष्ट्रपति पद के लिए फिर से नामित किया जा सकता है। वहीं उस संकल्प को भी अंतिम रूप दिया जाएगा, जो जिनपिंग के अधिकारों को बढ़ाएगा।

बताया जाता है कि ऐसे संकल्प चीन के इतिहास में दो बार पारित किए गए हैं। पहला 1945 में और दूसरा 1981 में। इन संकल्पों के जरिए माओत्से तुंग और देंग शियाओपिंग को शक्तियां बढ़ाने में मदद मिली थी। बैठक में 100 साल पुरानी कम्युनिस्ट पार्टी की उपलब्धियों पर प्रस्ताव पारित किया जा सकता है। कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र पीपुल्स डेली में जिनपिंग का महिमामंडन चल रहा है।

कई लेखों में उन्हें हीरो और चीन को कोरोना से बचाने वाला बताया गया है। देश को आर्थिक संकट से निकालने और अमेरिका के खिलाफ मजबूती से खड़े रहने को लेकर भी प्रशंसा की गई है। प्रस्ताव में कहा गया है कि माओत्से तुंग ने देश को दमन के खिलाफ खड़ा करने का नेतृत्व किया, देंग समृद्धि लाए। अब जिनपिंग चीन को राष्ट्रीय ताकत के नए युग की ओर ले जा रहे हैं।

यह भी बताया जा रहा है कि अब जिनपिंग संपन्नता की असमानता को दूर करने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। पार्टी के आधिकारिक इतिहास को नए सिरे से लिखा गया है। 531 पृष्ठ की किताब का एक-चौथाई हिस्सा नौ साल के विकास को समर्पित कर दिया गया है। कोई भी नेता इतिहास में जिनपिंग जैसी जगह नहीं बना पाया है।

इसके मद्देनजर बैठक में पार्टी के 100 साल के इतिहास का पुनर्मूल्यांकन संकल्प जारी होगा। फिर जिनपिंग को माओत्से तुंग और देंग के बाद चीन का ‘युग-पुरुष’ घोषित किया जा सकता है। इसके बाद जिनपिंग के खिलाफ बयानबाजी को चीन में अपराध माना जाएगा। उनके खिलाफ उठी हर आवाज दबा दी जाएगी।

तीसरी बार राष्ट्रपति बनने के लिए तीन साल पहले संविधान में संशोधन
जिनपिंग से पहले राष्ट्रपति रहे सभी नेता पांच साल के दो कार्यकाल या 68 साल की आयु होने के अनिवार्य नियम के बाद सेवानिवृत्त हो चुके हैं। 2018 में हुए अहम संविधान संशोधन के मद्देनजर शी को तीसरे कार्यकाल के लिए चुने जाने की संभावना है। शी को छोड़कर पार्टी के अन्य सभी पदाधिकारी दो कार्यकाल पूरा होने के बाद सेवानिवृत्त हो सकते हैं, जिनमें प्रधानमंत्री ली क्विंग भी शामिल हैं। अब अगले साल होने वाली कांग्रेस में जिनपिंग को तीसरी बार राष्ट्रपति चुना जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source